शहर की ट्रैफिक व्यवस्था को दुरुस्त करने के लिए रांची ट्रैफिक पुलिस, नगर निगम और पथ निर्माण विभाग संयुक्त रूप से जुटा है। रांची के ट्रैफिक एसपी संजय रंजन सिंह ने कहा है कि जल्द ही रांची का ट्रैफिक सिस्टम स्मूथ होगा। सड़कों पर सरपट वाहन दौड़ते दिखेंगे। रांची की सिग्नल लाइट, डिवाइडर, सीसीटीवी कैमरे, जेब्रा क्रॉसिंग व स्टॉप लाइन दुरुस्त किए जा रहे हैं। जाम से निजात दिलाने के लिए सड़कों को दुरुस्त किया जा रहा है। पुलिसकर्मियों की संख्या बढ़ाने पर जोर दिया जा रहा है।

अपने शहर को शानदार बनाने की मुहिम में शामिल हों, यहां करें क्लिक और रेट करें अपनी सिटी 

नियमित तौर पर इसकी मॉनिटरिंग भी चल रही है। आने वाले समय में रांची की ट्रैफिक सिस्टम आधुनिक उपकरणों के साथ दुरुस्त हो जाएगा। स्मूथली सड़कों पर वाहन दौड़ेंगे। ट्रैफिक पुलिसकर्मियों की कमी है। इस कमी को दूर करने के लिए पुलिस मुख्यालय को पत्र भेजा गया है। जिस पर सहमति बनी है।

जल्द ही अतिरिक्त पुलिसकर्मियों के साथा रांची में पर्याप्त मानव संसधान भी दिखेंगे। पुलिसकर्मियों को प्रशिक्षण करने की दिशा में भी ध्यान दिया जा रहा है। तकनीकी ज्ञान वरीय अधिकारियों द्वारा लगातार दिए जा रहे हैं। ट्रैफिक पुलिस की महत्वपूर्ण योजना ई-चालान सिस्टम और बटन कैमरा को बेहतर तरीके से ऑपरेट करने के लिए बड़ी संख्या में पुलिसकर्मी प्रशिक्षित हो चुके हैं।

682 की जगह 266 पुलिसकर्मी
राजधानी की ट्रैफिक पुलिस विभाग अरसे से पर्याप्त संख्या बल न होने के बावजूद व्यवस्था संभालने में लगा हुआ है। ट्रैफिक व्यवस्था के लिए 682 पुलिसकर्मी और अधिकारियों की जरूरत हैं, लेकिन मात्र 266 पुलिसकर्मी ही काम कर रहे हैं।

पैदल सड़क क्रॉस करने वालों के लिए लगेगा पेलिकन लाइट
रांची नगर निगम और ट्रैफिक पुलिस की ओर से जल्द ही 21 स्थलों पर लगे ट्रैफिक सिग्नलों पर पैदल चलने वालों के क्रॉस करने के लिए पेलिकन लाइट लगाएगा। पैदल चलने वालों को सड़क क्रॉस करते वक्त सिग्नल पर ध्यान देना होगा। ट्रैफिक सिग्नल रेड (लाल) होने के बाद पैदल सड़क क्रॉस करने वालों के लिए पेलिकन लाइट जलेगा। पेलिकन लाइट जलने पर पैदल सड़क क्रॉस करने वाले जेब्रा क्रॉसिंग जेब्रा क्रॉसिंग के माध्यम से सड़क क्रॉस कर सकेंगे।

एक साथ चार रास्तों के लिए ग्रीन हो रही शहर की सिग्नल लाइट
यह राजधानी की ट्रैफिक व्यवस्था है। यहां की सिग्नल लाइट एक साथ चार रास्तों के लिए ग्रीन हो रही है। आधे से अधिक सिग्नल ठप पड़े हुए हैं। कई जगहों की सिग्नल टूट चुके हैं। शहर के सर्वाधिक जाम लगने वाली जगह कांटाटोली, बहू बाजार, रातू रोड न्यू मार्केट, पिस्का मोड़, जेल चौक, सुजाता चौक आदि जगहों पर ट्रैफिक हाथ के सहारे संचालित किया जा रहा है।

इस व्यवस्था के बाद पिछले दिनों रांची की ट्रैफिक पुलिस लाखों रुपये का जुर्माना वसूल चुकी है। ठप ट्रैफिक सिग्नल के बावजूद सिग्नल ब्रेक के फाइन काटे गए हैं। यहां ट्रैफिक सिग्नल केवल खानापूर्ति के लिए लगे हैं। ऐसे में शहर जाम की समस्या से जूझ रही है। ट्रैफिक एसपी ने इनकी शीघ्र सुधार के दावे किए हैं।

ट्रैफिक सिग्नल में अक्सर पीला लाइट
रांची नगर निगम ने हाल ही में 21 स्थलों पर लगाए गए ट्रैफिक सिग्नल को दुरुस्त कराया है, ताकि यातायात की सुगम व्यवस्था को स्थापित किया जा सके, जबकि ट्रैफिक पुलिस खासकर सुजाता चौक, कांटाटोली चौक, किशोरगंज चौक, न्यू मार्केट चौक और सहजानंद चौक पर हाथ के इशारे से ही ट्रैफिक को नियंत्रित करने में कारगर है।

इन मार्गों पर ट्रैफिक लोड बढ़ते ही ट्रैफिक पुलिस मैन्युअल स्विच के माध्यम से ट्रैफिक सिग्नल को बंद कर देते हैं। परिणामस्वरूप इन स्थलों पर दिनभर ट्रैफिक सिग्नल का पीला लाइट जलता रहता है और ट्रैफिक पुलिस हाथ के इशारे से ट्रैफिक को नियंत्रित करने में परेशान रहती है।

विधि-व्यवस्था के लिहाज से रांची जैसे शहर की अराजक स्थिति को सुधारने में संजय रंजन की मशक्कत दिखती है। नाबालिग वाहन चालकों के कारण नियमित दुर्घटनाओं और मौत को रोकने के लिए इन्होंने खुद ही स्कूलों तक भ्रमण किया, कभी शिक्षक तो कभी अभिभावक और फिर बच्चों से बात कर नियमों का पालन करना सुनिश्चित कराया। सड़क सुरक्षा अभियान के दौरान एक महीने तक सुबह खुद ही बच्चों के पास पहुंच जाते थे, किसी भी स्कूल। अब हालात सामान्य होते दिख रहे हैं।

यातायात पुलिसः एक नजर

पद चाहिए वर्तमान

एसपी  01 01

डीएसपी 02 02

सार्जेट मेजर 02 00

इंस्पेक्टर 04 04

सार्जेट 06 02

दारोगा 07 02

हवलदार 122 28

सिपाही 517 191

चालक 05 04

- संजय रंजन

 (रांची के ट्रैफिक एसपी )

अपने शहर को शानदार बनाने की मुहिम में शामिल हों, यहां करें क्लिक और रेट करें अपनी सिटी 

By Krishan Kumar