रांची, राज्य ब्यूरो। भारतीय जनता पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष के तौर पर जेपी नड्डा की विधिवत ताजपोशी सोमवार को हो गई। इसी के साथ झारखंड में भाजपा के संगठन के नए सिरे से गठन की भी उल्टी गिनती शुरू हो गई है। झारखंड उन राज्यों में शुमार हैं, जहां भाजपा का संगठन अपना कार्यकाल पूरा कर चुका है। भाजपा के मुखिया होने के नाते जेपी नड्डा की सबसे बड़ी जिम्मेदारी उन राज्यों में संगठन के मजबूत ढांचे को खड़ा करना है, जहां कार्यकाल पूरा हो चुका है।

झारखंड में प्रदेश की वर्तमान इकाई का तीन साल का कार्यकाल पूरा हो चुका है। पूर्व अध्यक्ष ताला मरांडी के समय से लें, तो यह अवधि साढ़े तीन साल से अधिक की हो गई है। ताला मरांडी ने झारखंड के प्रदेश अध्यक्ष की कमान मई 2016 में संभाली थी। विवादों में घिरे तो लक्ष्मण गिलुवा को प्रदेश भाजपा की कमान दी गई। गिलुवा ने अपनी कार्यसमिति का गठन नौ नवंबर 2016 को किया था। इस लिहाज से देखा जाए तो भाजपा के वर्तमान संगठन का कार्यकाल पूरा हो चुका है।

झारखंड में विधानसभा चुनाव के कारण संगठन की चुनाव की प्रक्रिया लंबित रखी गई थी। चुनाव बीत गए और भाजपा सत्ता से बाहर भी हो गई। लक्ष्मण गिलुवा ने हार की जवाबदेही लेते हुए इस्तीफा भी दे दिया। उन्हें फौरी व्यवस्था के तहत फिलहाल पद पर बनाए रखा गया था। अब जब राष्ट्रीय अध्यक्ष का चुनाव हो गया है, तो प्रदेश की नई कार्यसमिति के गठन में अधिक विलंब नहीं किया जाएगा, यह तय है।

झारखंड भाजपा की आंतरिक कलह से वाकिफ हैं नड्डा

जेपी नड्डा झारखंड के प्रदेश संगठन की ताकत और कमजोरियां दोनों से बखूबी वाकिफ हैं। विधानसभा चुनाव के दौरान उन्होंने झारखंड में पूरा समय दिया। दर्जन भर जनसभाएं की, तो इससे कहीं अधिक बैठकें संगठन के स्तर पर की। चुनाव के दौरान ही नड््डा को प्रदेश संगठन के भीतर के असंतोष का अंदाज हो गया था। चुनाव के परिणाम ने इसे और स्पष्ट कर दिया है। ऐसे में प्रदेश संगठन के बागडोर वे किसके हाथों में सौंपेंगे, सभी की निगाहें इस पर लगी हैं। झारखंड में भाजपा को प्रदेश अध्यक्ष के साथ-साथ नेता प्रतिपक्ष का भी चुनाव करना है।

विपक्ष की भूमिका में भाजपा, तेजतर्रार नेतृत्व की उठ रही मांग

प्रदेश भाजपा में बहुत कुछ बदल गया है। अब वह विपक्ष की भूमिका में है। ऐसे में भाजपा में तेज तर्रार प्रदेश अध्यक्ष और नेता प्रतिपक्ष की मांग पार्टी के भीतर उठ रही है।

बाबूलाल की वापसी पर भी टिकी हैं निगाहें

झारखंड में नेतृत्व संकट से जूझ रही भाजपा की निगाहें झाविमो प्रमुख बाबूलाल मरांडी पर भी लगी हुई हैं। चर्चा है कि बाबूलाल दिल्ली में नड््डा की उपस्थित में तीस जनवरी से पहले भाजपा में वापसी कर सकते हैं। उनकी वापसी के बाद उनकी और उनके दल के वरीय सदस्यों की भाजपा में क्या भूमिका होगी, यह तय होगा।

Posted By: Sujeet Kumar Suman

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस