लोहरदगा, जासं। CAA Support सीएए के समर्थन में 23 जनवरी को लोहरदगा में निकाली गई जुलूस में पत्थरबाजी की घटना के बाद हिंसा व उपद्रव की घटना के बाद प्रशासन द्वारा लगाए गए कर्फ्यू में सोमवार को दो घंटे की ढील देकर अमन-चैन के साथ शांति स्थापित करने का प्रयास किया गया, जिसका असर दिखने लगा था, कि अचानक से बीती रात उपद्रवियों ने पतराटोली में खड़े एक ट्रक में आग लगाकर पुलिस-प्रशासन की कोशिश को चुनौती दे डाली।

इस घटना के बाद शांति व्यवस्था की प्रशासनिक कोशिश को झटका लगा। जिस तरह से घटना को अंजाम दिया गया उससे यह कहना गलत नहीं होगा कि लोहरदगा में शांति व्यवस्था कायम करना पुलिस के लिए बड़ी चुनौती हो गई है। उपद्रवी शांति की कोशिशों को लगातार झटका दे रहे हैं। जिसके कारण बाजार में तरह-तरह के अफवाह भी फैल रहा है। हालांकि प्रशासन इसे रोकने की पुरजोर कोशिश कर रही है।

उपद्रव की घटना के बाद से हीं पुलिस की चौकसी बढ़ी है और सरकार की भी इसपर नजर है। कर्फ्यू को लेकत वरीय पदाधिकारी सुबह से लेकर रात तक सड़क पर दिख रहे हैं, बावजूद उपद्रवी बाज नहीं आ रहे। लोहरदगा में छठे दिन कर्फ्यू जारी है, कर्फ्यू में कोई छूट नहीं दी गई है। जिसके कारण शहर से लेकर ग्रामीण अंचलों की सड़कों पर सन्नाटा पसरा हुआ है।

रैपिड एक्शन फोर्स के साथ राज्य के अन्य जिले से आए पुलिस के जवान लगातार गश्त कर रहे हैं। लोगों को घर में रहने की हिदायत दी जा रही है। लोहरदगा में कर्फ्यू के हालात और वर्तमान स्थिति पर प्रशासन लगातार समीक्षा कर शांति वयवस्था कायम करने में जुटी हुई है। लोगों की सामान्य गतिविधियों पर नजर रखते के साथ सोशल मीडिया की एक्टिविटी और घटनाक्रम की लगातार पड़ताल भी कर रही है, ताकि लोहरदगा में भंग हुई शांति वयवस्था फिर से कायम हो सके।

जिला प्रशासन का नागरिकों से अपील

जिला प्रशासन सभी नागरिकों से यह अपील किया है कि वे लोहरदगा जिले में शांति एवं विधि व्यवस्था बनाये रखने में पुलिस एवं प्रशासन का सहयोग करें। किसी भी प्रकार के गैर कानूनी कार्य किसी भी परिस्थिति में नही करें। किसी प्रकार का अफवाह एवं भ्रामक सूचना न फैलाएं। यदि ऐसी गतिविधि या कार्य करते हुए कोई भी पाए जाते है तो उनके विरुद्ध प्रशासन सख्त कानूनी कार्रवाई करेगी।

Posted By: Alok Shahi

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस