रांची, जासं। Deepika Kumari & Atanu Das Wedding अंतरराष्ट्रीय तीरंदाज दीपिका कुमारी व अतनु दास मंगलवार को एक दूजे के हो गए। कोरोना महामारी के बीच सभी नियमों का पालन करते हुए दोनों ने सात फेरे लिए। मोरहाबादी स्थित एक समारोह स्थल में विवाह संपन्न हुआ। विवाह समारोह में बराती और सराती पक्ष के चुनिंदा लोग ही शामिल हुए। 

जमकर नाचे अतनु, गोद में उठा मंच पर ले जाया गया

बरात लगने के बाद अतनु अपने भाइयों के साथ जमकर नाचे। इस दौरान अतनु समेत सभी मास्क लगाए हुए थे। बांग्ला रस्म के अनुसार अतनु को गोद में उठाकर मंच पर ले जाया गया। 5000 स्क्वायर फीट के समारोह स्थल को पूरी तरह सैनिटाइज किया गया था। स्टेज पर जाने से पूर्व अतनु को भी सैनिटाइज किया गया।

 

आठ ही बराती आए

शादी में अतनु के परिवार के कोलकाता से सिर्फ आठ सदस्य आए। अतनु के पिता ने बताया कि अमित दास ने बताया कि बरात में तो कई लोगों को आने का मन था लेकिन हमें सरकारी दिशा निर्देश को मानना है इसलिए हमलोग सिर्फ आठ लोग ही बरात में आए हैं।

बार-बार घोषणा

दीपिका की ओर से मात्र 50 कार्ड का ही वितरण किया गया था। मेहमानों के आने का समय भी तय था। इसलिए मेहमानों से बार-बार आग्र्रह किया जाता रहा कि अगर उन्होंने दीपिका व अतनु का आशीर्वाद दे दिया है तो खाना खाकर प्रस्थान करें ताकि दूसरे लोग आ सके। पंडाल में 50 से अधिक लोग नहीं होने चाहिए। हालांकि कई बार पंडाल में 50 से अधिक लोग एकत्र हुए थे लेकिन बाद में उनसे जाने का विनम्र आग्र्रह किया गया।

लिट्टी-चोखा ओनेक भालो

खाने-पीने के काफी व्यंजन बनाए गए थे। वेज और नॉनवेज दोनों के आइटम थे, लेकिन बरातियों को लिïट्टी चोखा काफी पसंंद आया। बराती इसे खाकर कुक को बोले, लिïट्टी-चोखा ओनेक भालो।

पिता शिव नारायण महतो ने किया कन्यादान

पहले से तय कार्यक्रम के अनुसार दीपिका का कन्यादान केंद्रीय मंत्री अर्जुन मुंडा को करना था लेकिन दिल्ली में व्यस्त होने के कारण वे विवाह समारोह में शामिल नहीं हुए। जिस कारण पिता शिव नारायण महतो ने कन्यादान किया। हालांकि मीरा मुंडा ने दोनों को आशीर्वाद दिया। अर्जुन मुंडा ने दीपिका और अतनु दास को शादी की शुभकामनाएं दी हैं।

मुख्यमंत्री समेत कई लोगों ने दिया आशीर्वाद

दीपिका व अतनु को आशीर्वाद देने के लिए मुख्यमंत्री हेमंत सोरेन के अलावा पूर्व उप मुख्यमंत्री सुदेश महतो, सांसद संजय सेठ, विधायक नवीन जायसवाल, डीजीपी एमवी राव, मेयर आशा लकड़ा, पद्मश्री अशोक भगत के अलावा कई गणमान्य लोग पहुंचे थे। सीएम ने दोनों को आशीर्वाद देते हुए कहा कि आशा है कि अब दोनों साथ मिलकर देश के लिए मेडल जीतेंगे।

सरकारी गाइडलाइन का किया गया पालन

विवाह समारोह में मास्क, सैनिटाइजर के साथ अन्य सुरक्षा के उपाय किए गए थे। प्रवेश द्वारा पर ही थर्मल स्क्रीनिंग की गई। फिर सबको सैनिटाइज किया गया। अंदर कैटरर भी पूरी तरह सैनिटाइज थे। खाने का टेबल दो-दो मीटर की दूरी पर लगाया गया था। स्टेज पर एक बार में सिर्फ चार मेहमानों का आने की अनुमति दी जा रही थी। मेहमान भी अपने साथ लाए गिफ्ट को हाथ में देने से बच रहे थे जबकि कुछ ने हाथ में थमा दिए।

रियो ओलंपिक में दोनों आए थे करीब

दीपिका और अतनु 2016 रियो ओलंपिक के दौरान एक-दूसरे के करीब आए। रियो ओलंपिक में अतनु ने जहां अपने प्रदर्शन से सभी को प्रभावित किया वहीं दीपिका आशानुरूप प्रदर्शन नहीं कर पाई थीं। खराब प्रदर्शन से दीपिका काफी निराश हो चुकी थीं, ऐसे में उन्हें अतनु का साथ मिला और यहीं से दोनों के बीच नजदीकियां बढ़ीं। दीपिका और अतानु की सगाई 2018 में हुई थी।

मेरे घर में दो ओलंपियन हो गए

बेटी की शादी से दीपिका के पिता शिवनारायण महतो काफी खुश थे लेकिन उन्हें इस बात का भी दुख था कि कल वह चली जाएगी। बातचीत में उन्होंने कहा कि बेटी को तो जाना ही होता है। लेकिन मुझे खुशी इस बात की है कि पहले मेरे घर में एक ओलंपियन मेरी बेटी थी अब तो दामाद भी ओलंपियन है। टोक्यो ओलंपिक में यह जोड़ी जरूर कमाल करेगी।

हमारा लक्ष्य ओलंपिक : दीपिका

इस दौरान दीपिका व अतनु ने कहा कि शादी के बाद कुछ दिन आराम करेंगे। फिर दोनों ओलंपिक की तैयारी में जूट जाएंगे। दोनों इस बार पदक जीतने में कोई कसर नहीं छोड़ेंगे। 

सुबह नौ बजे विदा होगी दीपिका

वृंदावन बैक्वेंट हॉल में शादी होने के बाद बुधवार सुबह रातु स्थित अपने घर जाएगी वहां से लगभग नौ बजे उसकी विदाई होगी।

Posted By: Alok Shahi

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस