लोहरदगा, जासं। सीएए के समर्थन में निकाले गए जुलूस पर हुई पत्थरबाजी की घटना के बाद लोहरदगा जिले में स्थिति अब सामान्य हो रही है। पुलिस-प्रशासन को आम लोगों का सहयोग मिल रहा है। गुरुवार को रांची के जोनल आइजी नवीन कुमार सिंह ने प्रेस कांफ्रेंस कर कहा कि सभी बिंदुओं पर समीक्षा के बाद हमने निर्णय लिया है कि शुक्रवार से सभी सरकारी कार्यालय और धान क्रय केंद्र खोले जाएंगे। सरकारी कार्यालयों में कर्मचारी निर्धारित समय में अपने-अपने कार्यालय में उपस्थित रहेंगे। शुक्रवार को कर्फ्यू में कुल 7 घंटे की ढील दी जाएगी। सुबह 8:30 बजे से लेकर दोपहर 12:00 बजे तक और दोपहर 2:00 बजे से लेकर शाम 5:30 बजे तक के लिए कर्फ्यू में ढील रहेगी।

आम लोग कर्फ्यू में ढील के समय सरकारी कार्यालय में जाकर अपने जरूरी काम करा सकते हैं। इसके अलावा कफ्र्यू में ढील के समय में किसान धान की बिक्री कर पाएंगे। जिले के सभी स्कूल-कॉलेज पहली फरवरी से खोले जाएंगे। कफ्र्यू को खत्म करने के लिए सभी पहलुओं पर समीक्षा चल रही है। साथ ही इसके लिए सभी समुदाय के लोगों से निरंतर बातचीत की गई है। आइजी ने कहा कि दंडाधिकारी के साथ पुलिस पदाधिकारी ग्रामीण क्षेत्रों में जाकर लगातार शांति समिति के गठन को लेकर लोगों को प्रोत्साहित कर रहे हैं।

कई क्षेत्रों में शांति मार्च भी निकाला गया है। उन्होंने हिंसा के मामले में अब तक की गई कार्रवाई की जानकारी देते हुए कहा कि एसआइटी काफी बेहतर ढंग से काम कर रही है। हिंसा के मामले में अब तक कुल 15 केस दर्ज किए गए हैं। इसमें 26 लोगों को गिरफ्तार कर जेल भेजा जा चुका है, जबकि 97 लोगों के खिलाफ कार्रवाई करते हुए उनसे बंधपत्र भरवाया गया है।

आइजी ने कहा कि हम शहर पर नजर रखने के लिए ड्रोन का व्यापक संख्या में इस्तेमाल कर रहे हैं। उन्होंने कहा कि किसी को कानून हाथ में लेने की जरूरत नहीं है। हम दोषियों को चिन्हित करते हुए उनके खिलाफ कार्रवाई कर रहे हैं। हम यह भरोसा दिलाते हैं कि न सिर्फ दोषियों की गिरफ्तारी होगी, बल्कि हम उन्हें सजा दिलाने में भी कामयाब होंगे। एसटीएफ से संबंधित मोबाइल संख्या जारी करते हुए आइजी ने कहा कि प्रशासन द्वारा जारी नंबर पर लोग घटना से संबंधित वीडियो-सूचना भेज सकते हैं। इसपर सीनियर स्तर के अधिकारी द्वारा नजर रखी जा रही है। लोगों की सूचनाओं गोपनीय रखी जाएंगी।

सरस्वती पूजा के बाद प्रतिमा विसर्जन के लिए कुछ स्थानों से अनुरोध किया गया है। मूर्ति विसर्जन के दिन व समय बाद में जारी किए जाएंगे। इसके लिए 5 लोगों की संख्या निर्धारित की गई है। आइजी ने कहा कि कहीं आने-जाने, मेडिकल हेल्प के लिए रेस्क्यू टीम से भी संपर्क किया जा सकता है। हम लोगों से सहयोग की अपेक्षा कर रहे हैं। हमारा प्रयास है कि हम जल्द से जल्द व्यवस्था बेहतर कर पाएं।

पुलिस लोगों के साथ मिलकर माहौल को बेहतर बना रही है। दोषियों को किसी भी हाल में बख्शा नहीं जाएगा। प्रेस वार्ता में रांची के जोनल आइजी नवीन कुमार सिंह के साथ डीआइजी एवी होमकर, उपायुक्त आकांक्षा रंजन, सीआइडी एसपी मनोज रतन चोथे भी मौजूद थे।

Posted By: Sujeet Kumar Suman

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस