रांची, राज्य ब्यूरो। झारखंड हाई कोर्ट में छह साल पहले डोरंडा में बच्ची के साथ दुष्कर्म व हत्या के मामले में सुनवाई टल गई। इसी के साथ लॉ छात्रा दुष्कर्म मामले की भी सुनवाई होनी थी। दोनों मामला चीफ जस्टिस डॉ. रवि रंजन व जस्टिस अपरेश कुमार सिंह की अदालत में सुनवाई के लिए सूचीबद्ध था, लेकिन शुक्रवार को चीफ जस्टिस की अदालत नहीं बैठी। इसकी वजह से उक्त मामलों में सुनवाई नहीं हो सकी।

इधर, चीफ जस्टिस की अदालत में ही फर्जी दस्तावेज के आधार पर रामगढ़ में कोयला के व्यापार मामले में भी सुनवाई होनी थी। पिछले शुक्रवार को अदालत ने रामगढ़ एसपी को अदालत में हाजिर होने का निर्देश दिया था। आदेश के तहत रामगढ़ एसपी अदालत पहुंचे थे। कोर्ट नहीं होने की वजह से उन्होंने हाई कोर्ट के रजिस्ट्रार जनरल अंबुज नाथ के यहां अपनी उपस्थिति दर्ज कराई।

बता दें कि डोरंडा में बच्ची के साथ दुष्कर्म व हत्या को लेकर रांची में बहुत बवाल हुआ था। इसको देखते हुए हाई कोर्ट ने स्वत: संज्ञान लेकर मामले की सुनवाई कर रही है। पिछले सुनवाई में अदालत ने पुलिस की जांच पर तल्ख टिप्पणी की थी। 

Posted By: Alok Shahi

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस