रांची, जागरण संवाददाता। कुख्यात कालू लामा और लवकुश शर्मा के बीच एक माह पहले फोन पर मोरहाबादी में दुकानदारों से रंगदारी वसूलने की बात को लेकर झगड़ा हुआ था। कालू लामा के घरवालों ने इस बात की जानकारी पुलिस को दी है। कालू के घरवालों का कहना है कि फोन पर लवकुश शर्मा ने जान से मारने की धमकी दी थी। इस वजह से कालू लामा सर्तक रहता था। इसके बाद भी कालू लामा की हत्या कर दी गई। पुलिस कालू लामा के मोबाइल का कॉल डिटेल खंगाल रही है। कालू को गोली मारने वाले शूटर सोनू शर्मा का लोकेशन रांची में निकला है। जबकि लवकुश शर्मा लोकेशन बिहार के गया जिला का निकला है। लवकुश शर्मा को मोबाइल लोकेशन की पूरी जानकारी है। इस वजह से पुलिस इस बिंदु पर जांच कर रही है कि लवकुश कहीं रांची में तो नहीं था और उसका मोबाइल गया में।

जेल में अलग अलग सेल रहते थे दोनों अपराधी

होटवार स्थित बिरसा मुंडा केंद्रीय कारागृह में रहने के दौरान दोनों अपराधियों को अलग अलग सेल में रखा जाता था। जेल के अंदर दोनों एक दूसरे से बातचीत नहीं करते थे। जेल प्रशासन को आशंका थी जेल के अंदर भी दोनों में विवाद हो सकता है। दोनों अपराधी शहर में अपना वचर्स्व कायम करना चाहते थे। इस वजह से लवकुश शर्मा ने कुख्यात अपराधी सुजीत सिन्हा से हाथ मिला लिया है। इस घटना के पीछे भी सुजीत सिन्हा मास्टर माइंड हो सकता है। पुलिस सुजीत सिन्हा से भी पूछताछ करेगी।

मोरहाबादी इलाके को सेफ जोन मानता है लवकुश शर्मा

लवकुश शर्मा मोरहाबादी इलाके को सबसे सेफ जोन मानता है। लवकुश शर्मा ने अरगोड़ा से पीछा करते हुए पीडब्लूडी के इंजीनियर समरेंद्र प्रसाद को मोरहाबादी में गोली मारा था। समरेंद्र प्रसाद से एक करोड़ रुपये की रंगदारी मांगी गई थी। रंगदारी का पैसा नहीं देने पर घटना को अंजाम दिया गया था। लवकुश शर्मा को इस बात की जानकारी थी कि कालू लामा का मोरहाबादी दबदबा है। इस वजह से लवकुश मोरहाबादी में ही कालू की हत्या कर पूरे शहर में अपना वचर्स्व कायम करना चाहता है।

रिम्स में घायलों का बयान नहीं ले सकी पुलिस

रिम्स में कालू लामा,राजू लामा और शुभम विश्वकर्मा के पहुंचते ही घरवालों समेत दर्जनों लोग मौके पर पहुंच गए। राजु और शुभम से पुलिस बयान लेना चाही लेकिन दोनों होश में नहीं थे। कालू की मौत की खबर मिलते ही उसकी मां रो रो कर पुलिसवालों पर आरोप लगाने लगी। कालू लामा के बहनोई योगेंद्र गोप ने कहा कि कालू का किससे विवााद हुआ था यह स्पष्ट हो जाएगा। कालू लामा के घरावालों का यह भी आरोप था कि कालू घर से निकलना नहीं चाहता था। लेकिन थाना से फोन आने के बाद वह घर से निकला।

गोलियों की तडतडहाट से सड़क पर गिरकर जख्मी हुआ रिटायर्ड जवान

मोरहाबादी में गोलियों की तडतड़ाहट से घबरा कर जैप का रिटायर्ड जवान लक बहादूर राणा अपनी पत्नी के साथ स्कूटी से गिरा गया। लोगों का लगा कि अपराधियों के द्वारा चलाई हुई गोली रिटायर्ड जवान को भी लगी है। बहादूर राणा को रिम्स ले जाया गया। वहां उसका इलाज हुआ और पता चला कि उसे गोली नहीं लगी है।

Edited By: Madhukar Kumar