सुरभि अग्रवाल, रांची। आज के दौर में सोशल मीडिया जिंदगी का एक अहम हिस्सा बन चुका है। यह एक वर्चुअल दुनिया बनाता है जिसे इंटरनेट के माध्यम से उपयोग किया जा सकता हैं। सोशल मीडिया जहा सकारात्मक भूमिका अदा करता है वहीं कुछ लोग इसका गलत उपयोग भी करते हैं। सोशल मीडिया में इन दिनों एक अनोखा चैलेंज वायरल हो रहा है। यू-ट्यूब पर इस चैलेंज को देखने वालों की संख्या लगातार बढ़ रही है। ये एक ऐसा चैलेंज है, जिसने इन दिनों युवाओं को क्रेजी कर रखा है।

यह है किकी चैलेंज जो इस वक्त सोशल मीडिया पर सबसे ज्यादा तेजी से वायरल होने वाला कंटेंट बन गया है। इस चैलेंज में 'इन माय फीलिंग्स' गाने में चलती गाड़ी से उतर कर डांस करना होता है, इसमें गाने की लाइन कीकी डू यू लव मी सॉन्ग में लोग इस चैलेंज को स्वीकार करके चलती गाड़ी के साथ डास करते हैं। इस खतरनाक डांस का चैलेंज लेकर वीडियोज बनाकर सोशल मीडिया पर शेयर करना चिंता का विषय है। इसे पूरा करने के लिए युवा खतरनाक स्टंट भी कर रहे हैं।

मोमो चैलेंज भी
इन दिनों मोमो चैलेंज भी वायरल हो रहा है। इस चैलेंज के लिए डरावनी तस्वीरे इस्तेमाल की जा रही हैं। यह चैलेंज भी जोखिम भरा है। इस गेम को पूरा ना करने पर यह यूजर को डाटती है और कड़ी सजा देने की धमकी भी देती है। इस डर से यूजर आदेश मानने को मजबूर हो जाता है। यूजर मोमो की बातों में फंसकर मानसिक दबाव में चला जाता है और यह अवसाद यूजर को जान देने पर मजबूर करता है।

जाते है किसी भी हद तक
ऐसे कई लोग हैं, खासकर युवा, जो सोशल मीडिया नेटवर्क पर प्रसिद्ध होने के लिए अपने जीवन को खतरे में डालते हैं। सोशल मीडिया नेटवर्क पर पसंद, लाइक्स और शेयर एक व्यक्ति की लोकप्रियता के पैरामीटर बन गए हैं और कई युवा अपनी तस्वीरों और वीडियो को वायरल करने के लिए किसी भी हद तक जाने के लिए तैयार हैं। लेकिन सस्ती लोकप्रियता हासिल करने के लिए अपनी जान जोखिम में डालना कतई सही नहीं है।

युवा हो रहे प्रभावित मोबाइल पर सोशल मीडिया का ज्यादा उपयोग युवाओं के लिए खतरनाक साबित हो रहा है। मोबाइल पर फेसबुक, इंस्टाग्राम और वाट्सएप का उपयोग करने वालों की संख्या काफी बढ़ रही है। इंटरनेट की दुनिया पर दिनभर बने रहने वाले युवाओं में कुछ विशेष कंटेंट को बार-बार देखने की आदत लग जाती है। इससे कुछ दिनों या महीनों में उनकी मानसिकता पर इसका गलत असर पड़ता है।

सोशल मीडिया का अत्यधिक इस्तेमाल युवाओं के मानसिक स्वास्थ्य को प्रभावित कर रहा है। युवाओं में व्यवहार और जीवनशैली संबंधी बदलाव देखे जा रहे हैं। जिनके कारण उनकी शिक्षा और व्यक्तिगत संबंधों पर बहुत बुरा असर पड़ रहा है। चिंता की बड़ी बात यह है कि ज्यादातर मामलों में लोगों को यह पता भी नही होता की वे इस समस्या से पीड़ित हैं। ज्यादातर युवाओं को इसकी लत लग जाती है। सोशल मीडिया का अत्यधिक इस्तेमाल करने वाले युवा अपने जीवन का नियंत्रण अन्य लोगों के हाथों में दे देते हैं।
- डॉ वर्णवाल, मनोवैज्ञानिक।

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस