जागरण टीम रांची/गुमला। रांची जिले के बेड़ो थाना क्षेत्र के बुधवार की रात अपनी कपड़े की दुकान बंद कर घर जाने के दौरान अपहृत किए गए कपड़ा व्यवसायी सुरेंद्र कुमार तिवारी गुमला जिले में अपहरण के 10 घंटे बाद मुक्त करा लिए गए। गुमला के रायडीह थाने की पुलिस ने अपहरणकर्ताओं के चंगुल से उन्हें गुरुवार को तड़के 4.30 बजे मुक्त कराया।

जानकारी के अनुसार, अपहरणकर्ता सुरेंद्र को मारुति स्विफ्ट से ले जा रहे थे। कार का रजिस्ट्रेशन गुमला के निवासी सतेंद्र तिवारी नाम पर है। रास्ते में कार बेड़ो थाना क्षेत्र के नदी टोली तुको में मनेंद्र कुमार प्रज्ञा केंद्र के समीप मोड़ पर असंतुलित होकर खेत में उतर गई। इसके बाद अपहरणकर्ताओं ने पिकअप वैन मंगाई और सुरेंद्र को लोहरदगा- बेड़ो रोड होते हुए गुमला की ओर ले जा रहे थे। रास्ते में रायडीह थाना के बगल में स्थित पेट्रोल पंप में अपहर्ता ईंधन भरवाने लगे। इसी दौरान वहां पर थाने की पीसीआर गाड़ी भी ईंधन भरवाने के लिए खड़ी थी, जिसे देख सुरेंद्र ने अपहर्ताओं से पेशाब करने जाने देने का अनुरोध किया।

इस पर दो अपहरणकर्ता उन्हें लेकर पेशाब कराने साथ गए। तभी सुरेंद्र चिल्लाते हुए दौड़कर पुलिस की गाड़ी के पास पहुंच गए। सामने पुलिस को देखकर अपहर्ता अपने वाहन समेत मांझाटोली की ओर भाग निकले। इधर, सुरेंद्र को पुलिस रायडीह थाना ले आई। फिर उनसे पूरी घटना की जानकारी लेकर रायडीह पुलिस ने बेड़ो पुलिस को सूचना दी। इस पर बेड़ो थाने से एक टीम सुरेंद्र को लाने रायडीह गई। जहां से बेड़ो पुलिस उन्हें अपने साथ ले आई है। बेड़ो थाने में सुरेंद्र से पूछताछ जारी है।

 

By Sachin Mishra