खूंटी, जासं। पिछले 4 साल से जिले के अड़की और मुरहू थाना क्षेत्र में आतंक का पर्याय बने प्रतिबंधित उग्रवादी संगठन पीएलएफआइ के कुख्यात एरिया कमांडर दीत नाग को पुलिस ने शनिवार को गिरफ्तार कर लिया है। दीत नाग की गिरफ्तारी अड़की थानांतर्गत चाडाडीह गांव के समीप रायतोडांग जंगल से हुई। गिरफ्तार उग्रवादी मुरहू थानांतर्गत केवड़ा गांव का निवासी है। सरकार ने उस पर दो लाख का इनाम घोषित किया हुआ है।

पुलिस को उसके पास से एक लोडेड पिस्टल, एके 47 के 11 कारतूस, पीएलएफआइ की चंदा रसीद, पर्चा और एक पिट्ठू बैग बरामद हुआ है। यह जानकारी पुलिस अधीक्षक आशुतोष शेखर ने शनिवार की शाम अपने कार्यालय कक्ष में आयोजित संवाददारता सम्मेलन में दी। एसपी ने बताया कि गत शुक्रवार की देर रात उन्हें गुप्त सूचना मिली कि पीएलएफआइ का एरिया कमांडर दीत नाग चाड़ाडीह गांव के समीप रायतोड़ांग जंगल में अपने दस्ते के तीन-चार सहयोगियों के साथ किसी घटना को अंजाम देने आया हुआ है।

इस सूचना पर उन्होंने एएसपी अभियान अनुराग राज और एसडीपीओ आशीष कुमार महली के नेतृत्व में एक विशेष टीम का गठन कर आवश्यक कार्रवाई का निर्देश दिया। शनिवार तड़के छापामार टीम ने उक्त जंगल में पहुंचकर सर्च अभियान शुरू किया तो पुलिस टीम को देखकर दीत नाग के साथ रहे उसके सहयोगी जंगल का लाभ उठाकर भाग निकले, जबकि दीत नाग को पुलिस ने धर दबोचा। एसपी ने बताया कि जिला पुलिस को पिछले 4 साल से दीत नाग की तलाश थी।

उसकी तलाश में कई बार जंगलों में विशेष अभियान चलाया गया, लेकिन हर बार वह पुलिस को चकमा देकर भाग निकलने में सफल हो जाता था। जनवरी 2019 में अड़की थानांतर्गत तिरला गांव के समीप पुलिस और पीएलएफआइ उग्रवादियों के बीच हुई मुठभेड़ में भी वह शामिल था। इस मुठभेड़ में पुलिस ने इनामी उग्रवादी प्रभु सहाय बोदरा सहित पांच उग्रवादियों को मार गिराया था, जबकि पैर में पुलिस की गोली लगने के बावजूद दीत नाग मुठभेड़ स्थल से भागने में सफल रहा था।

वह अपनी एके 47 राइफल मुठभेड़ स्थल पर ही छोड़कर भाग निकला था, जिसे पुलिस ने मुठभेड़ के बाद बरामद किया था। सूत्रों के अनुसार वह इतना क्रूर था कि मामूली सी बात पर किसी की भी हत्या कर देता था। उसने अपने चचेरे भाई जितेंद्र नाग की नृशंस हत्या मामूली सी बात पर कर दी थी। हत्या के बाद उसने शव को टुकड़े-टुकड़े कर फेंक दिया था। इसी वर्ष फरवरी माह में उसने मुरहू थानांतर्गत साड़ीगांव निवासी चामू हस्सा पूर्ति की जवान पुत्री की उसके घर में ही घुसकर हत्या कर दी थी।

इसके अतिरिक्त मुरहू थाना क्षेत्र में हुए चर्चित भैयाराम मुंडा की हत्या भी इसी ने की थी। एसपी ने बताया कि दीत नाग के विरुद्ध जिले के मुरहू और अड़की थाना में 19 मामले दर्ज हैं। इनमें अधिकांश मामले हत्या, आर्म्स एक्ट, 17 सीएलए एक्ट आदि संगीन धाराओं में हैं। छापामारी दल में पुलिस निरीक्षक खूंटी अंचल राधेश्याम दास, अड़की थाना प्रभारी पंकज कुमार दास, मुरहू थाना प्रभारी पप्पू कुमार शर्मा, पुलिस अवर निरीक्षक दीपक कुमार, पवन कुमार, शिवम राज, जयदेव कुमार सराक, विवेक कुमार महतो, संजय कुमार राय समेत अड़की व मुरहू थाना के सशस्त्र जवान शामिल थे।

Posted By: Sujeet Kumar Suman

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस