मोदी सरकार - 2.0 के 100 दिन

रांची, राज्य ब्यूरो। झारखंड प्रदेश कांग्रेस कमेटी को एक और बड़ा झटका लगा है। प्रदेश अध्यक्ष डॉ. अजय कुमार की टीम में शामिल रहे और वर्तमान में प्रदेश कांग्रेस अनुसूचित जाति विभाग के चेयरमैन पूर्व सांसद कामेश्वर बैठा ने गुरुवार को तृणमूल कांग्रेस की सदस्यता ग्रहण कर ली। सदस्यता ग्रहण करते ही उन्हें प्रदेश तृणमूल कांग्रेस का प्रदेश अध्यक्ष बना दिया गया है। पूर्व सांसद बैठा को तृणमूल कांग्रेस की ओर से पश्चिम बंगाल के कैबिनेट मंत्री मलय घटक ने अध्यक्ष बनाए जाने का पत्र सौंपा है।

तृकां प्रमुख ममता बनर्जी की अनुमति के बाद इस जिम्मेदारी को सौंपते हुए उनसे झारखंड में संगठन को धारदार बनाने की उम्मीद की गई है। पलामू लोकसभा क्षेत्र से सांसद रहे चुके बैठा इस सीट से कई अलग-अलग दलों से चुनाव लड़ चुके हैं। बैठा 2009 में वह झामुमो के टिकट पर पलामू से सांसद रह चुके हैं। इससे पहले वह 2007 के पलामू लोकसभा उपचुनाव में बीएसपी के उम्मीदवार थे। तब वह लगभग 20 हजार वोट से चुनाव हार गए थे।  2014 में वह पलामू से तृणमूल कांग्रेस के टिकट पर चुनाव लड़ चुके हैं, जिसमें उनकी हार हुई थी। इसके बाद कांग्रेस में शामिल हो गए थे।

तृणमूल कांग्रेस के कार्यालय प्रभारी दयानंद प्रसाद सिंह ने बताया कि बैठा के अध्यक्ष बनने से प्रदेश में पार्टी को मजबूती मिलेगी। तृणमूल कांग्रेस में शामिल होने के साथ ही बैठा ने पार्टी नेताओं के साथ विधानसभा चुनाव की तैयारियों और संगठन विस्तार को लेकर बैठक की। सभी पार्टी पदाधिकारियों को अधिक से अधिक सदस्य बनाने का निर्देश दिया गया है। संयुक्त बिहार में एक डीएफओ की हत्या में नामजद रहे बैठा फिलहाल बेल पर हैं।

इसके अलावा भी वह कई नक्सली घटनाओं को अंजाम देने के मामले में आरोपित रहे हैं। गुरुवार को बैठा के साथ प्रेस कांफ्रेंस में हेमा घोष, कंचन कुमारी, संजय कुमार पांडेय, जावेद इकबाल, कलीम शेख आदि मौजूद थे। बैठा के कांग्रेस छोड़कर जाने पर प्रतिक्रिया देते हुए प्रदेश कांग्रेस मीडिया प्रभारी राजेश ठाकुर ने कहा कि ऐसा कुछ लोग पहले भी कर चुके हैं, लेकिन उन्हें कोई फायदा नहीं हुआ।

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप

Posted By: Sujeet Kumar Suman

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप