रांची, राज्य ब्यूरो। झाविमो सुप्रीमो  बाबूलाल मरांडी पर 10 करोड़ रुपये की मानहानि का मामला दर्ज कराए जाने पर झाविमो के प्रधान महासचिव प्रदीप यादव ने पलटवार किया है। उन्होंने दो टूक कहा है कि भाजपा में थोड़ी भी शर्मिंदगी है तो इस पूरे प्रकरण पर उसे सोचना चाहिए। जिन अटलजी की कलशयात्रा को लेकर वे घूम रहे थे, उन्होंने ही 10वीं अनुसूची कानून को बनाया।

अगर अटलजी के प्रति उनमें थोड़ा भी सम्मान था तो उन सभी विधायकों की सदस्यता समाप्त कराना चाहिए था, उनसे त्यागपत्र दिलाना चाहिए था। अपनी गलतियों को छुपाने के लिए वे तरह-तरह की गलतियां दोहरा रहे हैं। बाबूलाल ने जो पत्र दिया है वह सामने है।

मेरा कहना है कि दिल्ली और यहां दोनों जगह आपकी सरकार है, इसकी जांच सीबीआइ से कराओ, किसी स्वतंत्र एजेंसी से कराओ, दूध का दूध और पानी का पानी हो जाएगा। जितना केस करना हो करो, झाविमो भाजपा के इन कृत्यों से डरने वाला नहीं है। हम सही हैं, आज न कल इसका सही परिणाम आएगा। जनता सारी बातों को गहरी निगाहों से देख रही है, वह सही समय पर इसका माकूल जवाब देगी।

Posted By: Alok Shahi

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस