रांची, राज्‍य ब्‍यूरो। पंजाब एवं हरियाणा के जस्टिस डॉ. रवि रंजन झारखंड हाई कोर्ट के मुख्य न्यायाधीश होंगे। सुप्रीम कोर्ट की कोलेजियम ने उनके नाम की अनुशंसा केंद्र सरकार को भेज दी है। बता दें कि इससे पहले त्रिपुरा के मुख्य न्यायाधीश जस्टिस संजय करोल का स्थानांतरण झारखंड हाई कोर्ट किया गया था, लेकिन कोलेजियम ने इसमें बदलाव करते हुए उनका स्थानांतरण पटना हाई कोर्ट कर दिया है।

जस्टिस रवि रंजन पटना के रहने वाले हैं। उन्होंने पटना विश्वविद्यालय से जियोलॉजी में पीएचडी की है। एमएससी करने के बाद वह बिहार कॉलेज ऑफ इंजीनियरिंग में सिविल इंजीनियरिंग विभाग में प्रोफेसर भी रहे। वर्ष 1989 में उन्होंने पटना विश्वविद्यालय से लॉ की डिग्री हासिल की। चार दिसंबर 1990 को उन्होंने पटना हाई कोर्ट में प्रैक्टिस शुरू की।

संवैधानिक, सिविल, राजस्व, आपराधिक और सर्विस मामले में विशिष्टता हासिल की। वर्ष 1997 में वह पटना हाई कोर्ट में केंद्र सरकार के स्टैंडिंग कौंसिल नियुक्त किए गए। वर्ष 2004 में वह सीनियर स्टैंडिंग स्टैंडिंग कौंसिल बने। 14 जुलाई 2008 को वह पटना हाई कोर्ट के अपर न्यायाधीश नियुक्त हुए और 16 जनवरी 2010 को उन्हें स्थायी जज बनाया गया।

मई 2019 से खाली है सीजे का पद

दरअसल, झारखंड हाई कोर्ट के पूर्व चीफ जस्टिस अनिरुद्ध बोस को सुप्रीम कोर्ट का जज बनाए जाने के बाद मई 2019 से मुख्य न्यायाधीश का पद खाली है। इसके बाद जस्टिस प्रशांत कुमार को कार्यवाहक मुख्य न्यायाधीश बनाया गया था। कुछ दिनों पहले उनका निधन हो गया। इसके बाद से जस्टिस एचसी मिश्र झारखंड हाई कोर्ट के कार्यवाहक मुख्य न्यायाधीश के पद पर पदस्थापित हैं।

Posted By: Sujeet Kumar Suman

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप