रांची, जासं। झारखंड की हेमंत सोरेन सरकार आज शुक्रवार को राज्य में स्कूल-कॉलेज खोलने पर निर्णय ले सकती है। इसके अलावा पारा शिक्षकों के स्थायीकरण और वेतन पर भी फैसले लिए जा सकते हैं। 30 जुलाई को स्कूली शिक्षा एवं साक्षरता विभाग की बैठक बुलाई गई है। इसमें मुख्यमंत्री भी उपस्थित रहेंगे। वे शिक्षा विभाग के पदाधिकारियों से इस संबंध में बात करेंगे। कोरोना वायरस संक्रमण के कारण राज्य में बड़ी संख्या में बच्चे ऑनलाइन शिक्षा से वंचित रह जा रहे हैं।

इसे देखते हुए सरकार स्कूल खोलने पर विचार कर रही है। सरकारी स्कूलों के सभी बच्चों को ऑनलाइन शिक्षा से जोडऩे को लेकर भी बैठक में विकल्प खोजे जा सकते हैं। बता दें कि स्कूल और शिक्षण संस्थान विद्यालय खोलने की मांग कर रहे हैं। बच्चों की पढ़ाई और आर्थिक स्थिति का हवाला देते हुए कहा जा रहा है कि अब कोरोना का संक्रमण कम हो गया है। इसलिए अब स्कूल-कॉलेजों को कोरोना गाइडलाइन का पालन करने का निर्देश देते हुए अनुमति दी जाए।

पारा शिक्षकों पर हो सकता है बड़ा निर्णय

बताया गया कि बैठक में पारा शिक्षकों के स्थायीकरण और वेतन पर भी निर्णय लिया जा सकता है। पारा शिक्षकों के कल्याण कोष पर भी बात होगी। राज्य में 65 हजार पारा शिक्षक कार्यरत हैं। वे लगातार अपनी मांगों को लेकर प्रदर्शन कर रहे हैं। बताया गया है कि उनके स्थायीकरण और वेतन को लेकर प्रस्ताव तैयार है। अब सीएम को इस पर अंतिम निर्णय लेना है। शिक्षक नियुक्ति की संशोधित नियमावली पर भी बैठक में चर्चा होगी। मुख्यमंत्री नियमावलियों को अंतिम रूप देने के लिए समय सीमा निर्धारित कर सकते हैं। नियमावलियां तैयार होने से शिक्षक पात्रता परीक्षा के आयोजन से लेकर नियुक्ति प्रक्रिया में तेजी आ सकती है। ऐसे में यह बैठक काफी महत्वपूर्ण मानी जा रही है।

Edited By: Sujeet Kumar Suman