रांची, जेएनएन। Jharkhand News in Hindi झारखंड के मुख्‍यमंत्री हेमंत सोरेन आज कर्मचारी हित में बड़ा एलान किया है। उन्‍होंने राज्‍य में एक बार फिर से पुरानी पेंशन स्‍कीम लागू करने की घोषणा की। पेंशन जयघोष महासम्मेलन में मुख्यमंत्री हेमंत सोरेन ने कहा क‍ि सामाजिक सुरक्षा हमारी प्राथमिकता है। हर वर्ग की आर्थिक और सामाजिक सुरक्षा के लिए सरकार काम कर रही है। अगस्‍त तक सरकारी कर्मचारियों के लिए पुरानी पेंशन योजना लागू होगी। उन्‍होंने कहा कि आज रांची में पेंशन जयघोष महासम्मेलन में आप सभी की उम्मीद का नाद मेरे कानों में गूंज रहा है।आपकी झारखंडी सरकार सभी वर्गों के सामाजिक सुरक्षा के प्रति संवेदनशील है। मेरी कोशिश है 15 अगस्त तक झारखंड के सरकारी कर्मचारियों के लिए पुरानी पेंशन योजना बहाल करूंगा।

हेमंत सोरेन ने हजारों सरकारी कर्मियों के बीच कहा कि आज फिर झारखंडी और झारखंडियत की जीत हुई है। धनबल, झूठ, छल, अहंकार और शोषण की राजनीति को आज फिर चौथे विधानसभा उपचुनाव में मांडर की जनता ने चारों खाने चित कर दिया। गठबंधन की युवा उम्मीदवार शिल्पी नेहा तिर्की जी को अनेक-अनेक बधाई तथा सभी मांडर वासियों को धन्यवाद और जोहार। जय झारखंड।

इससे पहले राजस्‍थान और छत्तीसगढ़ ने पुरानी पेंशन स्‍कीम बहाल कर दिया है। राजधानी रांची के मोहराबादी मैदान में रविवार, 26 जून को हो रहे पेंशन महासम्‍मेलन के मंच से हेमंत सोरेन ने यह अहम एलान किया है। पुरानी पेंशन स्कीम लागू करने की मांग को लेकर यहां सरकारी कर्मियों का पेंशन महासम्मेलन हो रहा है। जिसमें ओडिशा, तेलंगाना, उत्तर प्रदेश, बिहार, मध्यप्रदेश आदि राज्यों में पुरानी पेंशन योजना की मांग कर रहे कर्मचारी संगठनों के प्रतिनिधि शामिल हैं।

बताया गया है कि झारखंड के मुख्यमंत्री हेमंत सोरेन पेंशन महासम्मेलन में बतौर मुख्य अतिथि शामिल हो रहे हैं। इस मौके पर राज्य में पुरानी पेंशन स्कीम लागू करने की घोषणा वे कर सकते हैं। ऐसी संभावना है कि झारखंड में छत्तीसगढ़ माडल पर पुरानी पेंशन स्कीम लागू की जाए।नेशनल मूवमेंट फार ओल्ड पेंशन स्कीम, झारखंड ने पेंशन महासम्मेलन का आयोजन किया है। एनएमओपीएस को पूरी उम्मीद है कि मुख्यमंत्री हेमंत सोरेन सरकार के कर्मियों को पुरानी पेंशन स्कीम का तोहफा देंगे।

बताया गया है कि पुरानी पेंशन योजना की बहाली के लिए राष्ट्रीय आंदोलन चलाया जा रहा है। आज के पेंशन जयघोष महासम्मेलन में राज्य सरकार के हजारों कर्मचारी शामिल हो रहे हैं। एनएमओपीएस, झारखंड के अध्यक्ष विक्रांत कुमार सिंह ने बताया कि पुरानी पेंशन स्कीम समाप्त करने के पीछे पूंजीपतियों की साजिश थी। नई पेंशन स्कीम में कई खामियां हैं। इसमें सुरक्षा की कोई गारंटी नहीं है। पुरानी पेंशन स्कीम की तुलना में नई पेंशन स्कीम से सरकारों पर अधिक बोझ पड़ रहा है। प्रवक्ता शिवानंद कांशी ने कहा कि डीए या वेतनमान बढ़ने का लाभ नई पेंशन स्कीम में नहीं मिल रहा है। बताया गया है कि झारखंड राज्य प्रशासनिक सेवा के पदाधिकारी से लेकर चतुर्थ वर्गीय कर्मी तक आज के पेंशन महासम्‍मेलन में शामिल हो रहे हैं।

Edited By: Alok Shahi