रांची, जागरण संवाददाता।  Jharkhand Naxalite Arrested राजधानी रांची के एयरपोर्ट थाना क्षेत्र के रिंग रोड के किनारे बसे गांव टोनको में पुलिस ने छापामारी कर चाईबासा जिले के 2 लाख रुपए के इनामी पीएलएफआई उग्रवादी व एरिया कमांडर सोनू मांझी और उसके एक अन्य साथी वासु कांडुलना को एक साथ गिरफ्तार कर लिया। रांची के वरीय पुलिस अधीक्षक कौशल किशोर को मिली गुप्त सूचना पर हटिया डीएसपी राजा कुमार मित्रा के नेतृत्व में गठित टीम ने गिरफ्तारी की है। इस गिरफ्तारी टीम में एयरपोर्ट थाना प्रभारी आनंद प्रकाश सिंह, डोरंडा थाना प्रभारी रमेश कुमार, तुपुदाना थाना प्रभारी मीरा सिंह एवं एसएसपी मौजूद थे।

टोनको गांव में किराए के मकान में रहते है सोनू के पिता

गठित विशेष टीम में शामिल पुलिसकर्मियों ने टोनको गांव की घेराबंदी कर पीएलएफआई के एरिया कमांडर सोनू मांझी एवं उसके सहयोगी वासु कांडुलना को गिरफ्तार कर अपने साथ ले गई। मिली जानकारी के अनुसार, सोनू के माता पिता टोनको गांव में काफी दिनों से किराए के मकान में रह रहे है। वे वहां सुप ,दौरा बनाने का काम करते हैं और बाजार में बेचकर अपना जीविका चलाते हैं। 

खूंटी जेल से बाहर आने के बाद रनिया में रह रहा था सोनू

परिजनों ने बताया कि खूंटी जेल से कुछ महीने पहले सोनू मांझी बेल पर बाहर आया था और रनिया क्षेत्र में रह रहा था। मंगलवार को वह शाम में अपने साथी वासु कांडुलना के साथ टोनको स्थित अपने मां-बाप के घर आया था। तभी पुलिस की टीम ने उसे गिरफ्तार कर लिया।

पुलिस ने दो पिस्टल किया बरामद

पुलिस सूत्रों के अनुसार, घर का तलाशी लेने पर दो पिस्टल पुलिस ने बरामद किया है। चाईबासा पुलिस सोनू मांझी के ऊपर दो लाख का इनाम भी रखा है। चाईबासा, सोनुवा, रनिया बंदगांव एवं खूंटी के विभिन्न थानों में उसके ऊपर दर्जनों मामले दर्ज हैं।

पीएलएफआई सुप्रीमो दिनेश गोप का करीबी है सोनू

पुलिस सूत्रों ने बताया कि सोनू पीएलएफआई सुप्रीमो दिनेश गोप का करीबी है और बंदगांव एवं चक्रधरपुर क्षेत्र में काफी सक्रिय है। सोनू मांझी मूल रूप से बंदगांव थाना क्षेत्र के तूरुंग गांव का निवासी है। उसके साथ पकड़े गए बासु कांडुलना चक्रधरपुर के सोनुवा थाना क्षेत्र के बांदु गांव का निवासी है

Edited By: Sanjay Kumar

जागरण फॉलो करें और रहे हर खबर से अपडेट