रांची/तुपुदाना, जागरण संवाददाता। Jharkhand Crime News : पीएलएफआइ उग्रवादी (PLFI Militants) निवेश (Nivesh) और शुभम (Subham) से पूछताछ में झारखंड पुलिस (Jharkhand Police) को महत्वपूर्ण जानकारी मिली है। दोनों के विभिन्न बैंकों (Banks) में आठ खाते हैं। जिसे पुलिस ने छानबीन के बाद फ्रीज (Fridge) कर दिया है। इसमें निवेश की पत्नी चांदनी के नाम से दो बैंक खाते भी शामिल हैं। रिमांड (Remand) पर पूछताछ कर रहे एक पुलिस अधिकारी ने बताया कि आठों बैंक खातों में करीब 25 लाख रुपये हैं। जबकि स्पेशल ब्रांच (Special Branch) के एक अधिकारी ने पूर्व में खातों में 50 लाख रुपये होने की जानकारी दी थी। पुलिस ने बैंकों को पत्र लिखकर इन खातों से लेन देन पर रोक लगा दी है।

फायनेंस बैंक में निवेश और चांदनी के तीन बैंक खाते

धुर्वा स्थित स्माल फायनेंस बैंक में निवेश और चांदनी के तीन बैंक खाते हैं। एक खाता दोनों के नाम संयुक्त है। वहीं, जगन्नाथपुर सेक्टर टू स्थित स्टेट बैंक में निवेश और उसकी पत्नी के नाम एक-एक खाता, सुजाता चौक स्थित एक्सिस बैंक में निवेश और शुभम का एक-एक बैंक खाता और खूंटी के कैनरा में शुभम के एक बैंक खाते का सत्यापन हुआ है।

निवेश और शुभम को आमने-सामने बिठाकर पुलिस ने की पूछताछ 

रांची पुलिस ने उग्रवादी निवेश कुमार और उसके सहयोगी खूंटी निवासी शुभम को तीन दिनों की रिमांड पर लिया है। रिमांड के पहले दिन मंगलवार को हेड क्वार्टर डीएसपी वन नीरज कुमार के अलावा धुर्वा इंस्पेक्टर व अन्य अधिकारियों ने पूछताछ शुरू की। पुलिस पीएलएफआइ द्वारा लेवी में वसूले गए पैसे और हथियार की जानकारी प्राप्त करना चाहती थी।

पुलिस को दे रहा था रटा रटाया जवाब

पूछा जा रहा था कि दिनेश गोप के किन-किन हथियार तस्करों से संबंध है, जबकि निवेश सिर्फ यही कह रहा था कि हथियार दिलाने के नाम पर उसने पीएलएफआइ सुप्रीमो से ठगी की है। अब दिनेश गोप उसे जीने नहीं देगा। अब बचना मुश्किल है। पुलिस को रटा रटाया जवाब दे रहा था, कि उसके पास पीएलएफआइ से जुड़ी जानकारियां नहीं हैं।

पूछताछ में संगठन से जुड़ी मिलेंगी कई अहम जानकारियां

हालांकि, पूछताछ के दौरान निवेश ने स्वीकार किया कि उसे हथियार उपलब्ध कराने के लिए पहली बार एक करोड़ रुपये जबकि दूसरी बार में 65 लाख रुपये मिले थे। अभी रिमांड अवधि दो दिन और बची है। पुलिस को उम्मीद है कि पूछताछ में संगठन से जुड़ी कई अहम जानकारियां मिलेंगी। वहीं, इन दोनों के कारण धुर्वा थाने की सुरक्षा बढ़ा दी गई है।

अवधेश जायसवाल उर्फ चूहा ने घर पहुंचाए थे 65 लाख रुपये

पुलिस पूछताछ में निवेश ने बताया कि पीएलएफआइ का प्रमुख उग्रवादी अवधेश जायसवाल उर्फ चूहा ने रनिया के जंगल में दिनेश गोप से मिलवाया था। सौदा के अनुरूप 45 अत्याधुनिक हथियार के बदले एक करोड़ रुपये जबकि बाद में संगठन द्वारा 65 लाख रुपये भेजे गए। अवधेश उर्फ चूहा ने ही घर आकर पैसा पहुंचाया था।

उग्रवादी को लीज पर होटल देने के आरोप में मालिक के खिलाफ प्राथमिकी दर्ज

बिना पुलिस सत्यापन किए पीएलएफआइ सरगना दिनेश गोप के खासम खास निवेश को होटल लीज पर देने के मामले में पुलिस कार्रवाई आरंभ हो गई है। दिल्ली के महिपालपुर स्थित होटल एरो लुक के मालिक सतभान सिंह के खिलाफ प्राथमिकी दर्ज की गई है। सतभान सिंह पर बिना सत्यापन उग्रवादी को होटल देने और उग्रवादियों को शरण देने के आरोप में प्राथमिकी हुई है। पुलिस जांच में यह भी पता चला कि निवेश ने 22 अक्टूबर 2021 से अपने विश्वासपात्र रवि को होटल का मैनेजर बना रखा है।

Edited By: Sanjay Kumar