रांची, राज्य ब्यूरो। Jharkhand, Mandar Result झारखंड विधानसभा में आधी आबादी का प्रतिनिधित्व अब बढ़ता दिखाई दे रहा है। मांडर उपचुनाव में कांग्रेस प्रत्याशी शिल्पा नेहा तिर्की की जीत के साथ ही विधानसभा में महिला विधायकों की संख्या बढ़कर 11 हो गई है, जो कि कुल संख्या का 13 प्रतिशत से अधिक है। राज्य गठन के बाद यह अब तक का सर्वाधिक आंकड़ा है। विधानसभा में कांग्रेस के महिला विधायकों की संख्या सर्वाधिक पांच हो गई है। दीपका पांडेय सिंह, ममता देवी, पूर्णिमा नीरज सिंह, अंबा प्रसाद के बाद अब शिल्पा नेता तिर्की ने महिलाओं की संख्या में इजाफा किया है।

झारखंड विधानसभा में झामुमो महिला विधायकों की संख्या तीन है। मंत्री जोबा मांझी के अलावा सीता सोरेन और सविता महतो सदन में आधी आबादी का नेतृत्व कर रहीं हैं। मुख्य विपक्षी दल भाजपा के महिला विधायकों की संख्या भी तीन है। नीरा यादव, अपर्णा सेन गुप्ता और पुष्पा देवी सदन में महिलाओं का प्रतिनिधित्व पार्टी की ओर से करती हैं। बता दें कि वर्ष 2009 में गठित विधानसभा में महिला विधायकों की संख्या आठ थी। 2014 के चुनाव में भी इनकी संख्या आठ ही थी लेकिन इसके बाद हुए उपचुनावों में के बाद इनकी संख्या बढ़कर दस हो गई थी। यह पहला मौका है जब महिला विधायकों की संख्या बढ़कर 11 पहुंची है।

हर विधानसभा क्षेत्र में अग्निपथ योजना का विरोध करेंगे कांग्रेसी

झारखंड के सभी विधानसभा क्षेत्र में कांग्रेस के नेता एवं कार्यकर्ता केंद्र सरकार की अग्निपथ योजना का विरोध करेंगे। इसके लिए सोमवार की तिथि तय की गई है। राष्ट्रीय प्रवक्ता अंशुल अभिजीत ने रांची स्थित प्रदेश कांग्रेस मुख्यालय में यह जानकारी दी। इस दौरान उन्होंने केंद्र सरकार को सभी मोर्चों पर विफल रहने का आरोप लगाया। इस मौके पर प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष राजेश ठाकुर, प्रदेश प्रवक्ता राजीव रंजन प्रसाद, राकेश सिन्हा व अन्य मौजूद थे। अंशुल अभिजीत ने कहा कि केंद्र सरकार की यह योजना युवाओं से विश्वासघात है। उन्होंने इस दौरान नारा भी दिया और कहा कि पूरे देश में यह नारा गूंज रहा है - अग्निपथ की बात, युवाओं से विश्वासघात। उन्होंने जानकारी दी कि सोमवार को राज्य के सभी विधानसभा क्षेत्रों में पार्टी के कार्यकर्ता और नेता विरोध प्रदर्शन करेंगे।

Edited By: Alok Shahi