रांची, राज्‍य ब्‍यूरो। Jharkhand Lockdown, Lockdown in Jharkhand, Jharkhand Lockdown 2021 झारखंड में लॉकडाउन लगाने या दूसरी पाबंदियों से पहले मुख्यमंत्री हेमंत सोरेन ने शनिवार को शाम साढ़े छह बजे सर्वदलीय बैठक बुलाई है। कोरोना पर प्रभावी नियंत्रण के उपायों के मद्देनजर सभी दलों की वे राय लेंगे। मुख्यमंत्री हेमंत सोरेन ने सर्वदलीय बैठक इसलिए बुलाई है ताकि कड़े फैसले लेने के पहले सभी दलों को विश्वास में लें। सीएम इस बैठक में कोरोना वायरस संक्रमण पर रोक लगाने के प्रभावी उपायों पर चर्चा करेंगे। विपक्षी दलों से वे उनकी राजय जानेंगे। माना जा रहा है कि झारखंड में बेतहाशा बढ़ रहे कोरोना संक्रमण को लेकर सीएम हेमंत सोरेन लॉकडाउन सरीखी कड़ी पाबंदियां लगा सकते हैं। शनिवार को अब लॉकडाउन पर बड़ा फैसला सामने आएगा। इससे पहले सीएम ने कड़े फैसले लेने के संकेत दिए हैं। सीएम की ऑल पार्टी मीटिंग जूम एप के जरिये होगी।

झारखंड में लॉकडाउन

  • मुख्यमंत्री हेमंत सोरेन ने बुलाई सर्वदलीय बैठक
  • शनिवार को शाम साढ़े छह बजे होगी बैठक
  • कोरोना पर प्रभावी नियंत्रण के उपायों के मद्देनजर सभी दलों की राय लेंगे
  • मुख्यमंत्री हेमंत सोरेन कड़े फैसले लेने के पहले सभी दलों को विश्वास में लेंगे
  • मुख्यमंत्री हेमंत सोरेन की पहल पर जूम एप पर होगी सर्वदलीय बैठक

हेमंत सोरेन ने आज करेंगे सर्वदलीय बैठक

मुख्यमंत्री हेमंत सोरेन शनिवार को सभी दलों के साथ बैठक करेंगे। कोरोना पर प्रभावी नियंत्रण के लिए कड़े फैसले लेने के पूर्व सभी राजनीतिक दलों को विश्वास में लेने की कवायद के तहत उन्होंने सर्वदलीय बैठक बुलाई है। बैठक शाम साढ़े बजे वीडियो कांफ्रेंसिंग के जरिए होगी। बैठक में सभी प्रमुख राजनीतिक दलों के प्रदेश अध्यक्षों अथवा प्रतिनिधियों को शामिल रहने का आग्रह किया गया है।

कोरोना पर प्रभावी नियंत्रण की कवायद, कड़े फैसले के पहले सभी दलों को विश्वास में लेंगे

मुख्यमंत्री सचिवालय ने सभी दलों के नेताओं से बैठक के बाबत संपर्क किया है। संभावना जताई जा रही है कि बैठक में कोरोना से निपटने के लिए कड़े उपायों पर चर्चा की जाएगी। मुख्यमंत्री हेमंत सोरेन ने गुरुवार को अधिकारियों संग उच्चस्तरीय बैठक के बाद कहा था कि सरकार परिस्थितियों का आकलन कर निर्णय करेगी। सर्वदलीय बैठक की वजह से ही शुक्रवार को आपदा प्रबंधन विभाग की प्रस्तावित बैठक को टाल दिया गया।

सभी दलों को बैठक में शामिल होने का आमंत्रण

मुख्यमंत्री ने निर्णय किया कि ठोस नतीजे पर पहुंचने के पहले सभी दलों से सलाह-मशविरा लेना चाहिए। कोरोना संक्रमण का प्रसार काफी बड़ा है और इससे बड़ी संख्या में लोग प्रभावित हो रहे हैं। यह जनहित से भी जुड़ा मामला है। ऐसे में अकेले निर्णय लेने की बजाय सबकी सहमति आवश्यक है।

मुख्यमंत्री कार्यालय पर भी असर

कोरोना संक्रमण का असर मुख्यमंत्री कार्यालय पर भी पड़ा है। एक वरीय अधिकारी के मुताबिक लगभग 80 प्रतिशत कर्मी इससे प्रभावित हैं। सीमित संख्या बल के आधार पर कार्यालय का कामकाज चल रहा है। मुख्यमंत्री कार्यालय में इसे लेकर सतर्कता बढ़ा दी गई है।

शॉर्ट मे जानें सभी बड़ी खबरें और पायें ई-पेपर,ऑडियो न्यूज़,और अन्य सर्विस, डाउनलोड जागरण ऐप