रांची, जागरण संवाददाता। अपहरण व हत्या के मामले में उम्र कैद की सजा काट रहा कुख्यात अपराधी कृष्ण मोहन झा की शुक्रवार को बिरसा मुंडा होटवार जेल में मौत हो गई। वो बिहार के मुजफ्परपुर जिले के कुढ़नी थाना क्षेत्र के बथना परिया गांव का रहने वाला था। अपहरण, हत्या के मामले में रांची के बिरसा मुंडा होटवार जेल में आजीवन कारावास की सजा भुगत रहा था।

जेल में ही चल रहा था इलाज

कृष्ण मोहन झा लीवर संक्रमण रोग से पीड़ित था। जेल में ही उसका इलाज चल रहा था। रोग बढ़ने से परेशान होकर उसने मुख्यमंत्री, मुख्य न्यायाधीश को आवेदन लिख कर जान बचाने की गुहार लगायी थी और लोगों से आर्थिक मदद भी मांगी थी। उसकी परेशानी को देखते हुए जेल प्रशासन ने अगस्त 2021 में रिम्स के मेडिसिन वार्ड में भर्ती कराया था। जहां से पुलिसकर्मियों के आंखों में धूल झोंक कर 19 सितंबर की सुबह फरार हो गया था। इससे पहले पुलिसकर्मियों को भरोसा में लेने के लिए एक दिन पहले रसगुल्ला भी खिलाया था। एक सप्ताह बाद उसकी गिरफ्तारी पैतृक गांव से हुई थी। झारखंड के हजारीबाग जिले के चौपारण थाना क्षेत्र स्थित असवाल चौक और लातेहार के अंबा कोठी में भी अपना ठिकाना बनाया था।

कई संगीन मामले दर्ज

बता दें कि पंडरा ओपी क्षेत्र के मार्बल कारोबारी राजू मंडल के अपहरण व हत्या के मामले में कृष्ण मोहन झा को पांच 2016 को उम्रकैद की सजा सुनाई गई थी। उसपर लातेहार जिले में नक्सली गतिविधि में संलिप्त रहने के अलावा गुमला, समस्तीपुर के पूसा, मुजफ्फरपुर के मुसहरी थाना में कई संगीन मामले दर्ज थे।

2019 में गुमला से भेजा गया था होटवार जेल

लीवर खराब होने के बाद होती थी खून की उल्टी, 2019 के जनवरी माह में उसे सुरक्षा की दृष्टि से गुमला जेल से बिरसा मुंडा हाेटवार में शिफ्ट किया गया था। पिछले दो साल से लीवर में संक्रमण और टीवी की बिमारी से परेशान था। कैदी का एम्स से ही इलाज चल रहा था। लीवर में संक्रमण की वजह से कैदी का पेट में पानी भर जाता था। इसके कारण चलने फिरने में भी परेशानी होती थी। जानकारी के अनुसार शुक्रवार को अचानक कृष्णमाेहन की तबियत बिगड़ी जिसके बाद उसकी माैत हाे गई।

Edited By: Madhukar Kumar