रांची, राज्य ब्यूरो। केंद्र सरकार मार्च माह से 12 से 14 वर्ष के बच्चों का कोरोना टीकाकरण करने की तैयारी कर रही है। ऐसे में झारखंड को इस माह के अंत तक 15 से 18 वर्ष के सभी किशोरों को पहली डोज का टीका लगा लेना होगा ताकि बच्चों का भी टीकाकरण शुरू होने पर अधिक कार्यभार बढऩे पर झारखंड किशोरों के टीकाकरण में भी न पिछड़ जाए। जनवरी माह में इस लक्ष्य को पूरा करने के लिए राज्य को प्रतिदिन एक लाख से अधिक किशोरों का टीकाकरण करना होगा, जबकि वर्तमान में प्रतिदिन औसतन 44 हजार किशोरों को ही टीका लगा रहे।

जनवरी माह तक सभी को लगा देनी है पहली डोज

दरअसल, फरवरी माह से किशोरों के दूसरी डोज का भी टीकाकरण शुरू होना है। केंद्र सरकार की सोच है कि जनवरी माह तक सभी किशोरों को पहली डोज तथा फरवरी माह में दूसरी डोज का टीका लग जाए ताकि मार्च माह से 12 से 14 वर्ष के बच्चों का टीकाकरण शुरू किया जा सके। केंद्र ने इसे लेकर राज्य सरकार को दिशा-निर्देश भी दिए हैं।

27 फीसद को ही पहली डोज का टीका

राज्य में अबतक किशोरों के टीकाकरण की बात करें तो अभी तक 23.98 लाख किशोरों में 6.55 लाख को ही पहली डोज का टीका लग सका है। इस तरह, लगभग 27 प्रतिशत को ही पहली डोज का टीका लग सका है। झारखंड सहित पूरे देश में तीन जनवरी को इस आयु वर्ग के किशोरों का टीकाकरण शुरू हुआ था। इस तरह, 15 दिनों में इतना टीकाकरण हुआ है।

गुमला, लातेहार सबसे आगे, जामताड़ा फिसड्डी

किशोरों के टीकाकरण में गुमला तथा लातेहार सबसे आगे हैं जहां 15 से 18 वर्ष के 49 प्रतिशत किशोरों को पहली डोज का टीका लग चुका है। वहीं, जामताड़ा सबसे फिसड्डी है जहां इस आयु वर्ग के महज 12 प्रतिशत किशोरों को अभी तक पहली डोज का टीका लग सका है।

किशोरों के टीकाकरण में ये जिले हैं टाप फाइव में (आंकड़े प्रतिशत में)

  • गुमला : 49
  • लातेहार : 49
  • गढ़वा : 35
  • बोकारो : 34
  • रामगढ़ : 33

किशोरों के टीकाकरण में ये जिले हैं फिसड्डी (आंकड़े प्रतिशत में)

  • जामताड़ा : 12
  • धनबाद : 19
  • लोहरदगा : 19
  • पाकुड़ : 19
  • सरायकेला खरसावां : 20

Edited By: M Ekhlaque