रांची, राज्य ब्यूरो। झारखंड में कोरोना का वर्तमान संक्रमण ओमिक्रोन की वजह से ही हो रहा था। राज्य में पहली बार कोरोना के इस वैरिएंट की होने की पुष्टि हुई है। कुल 14 सैंपल में ओमिक्रोन मिला है। रांची स्थित राजेंद्र आयुर्विज्ञान संस्थान से भुवनेश्वर स्थित आइएलएस को भेजे गए सैंपल की हुई जीनोम सिक्वेंसिंग में इतने सैंपल में ओमिक्रोन होने का पता चला।

87 सैंपल जीनोम सिक्वेंसिग के लिए भेजे गए थे

रिम्स से इसी माह तीन जनवरी को कुल 87 सैंपल जीनोम सिक्वेंसिग के लिए आइएलएस, भुवनेश्वर भेजे गए थे। इनमें से कुल 47 सैंपल की जीनोम सिक्वेंसिंग हुई। शनिवार को शाम में इसकी रिपोर्ट आई, जिसमें 14 सैंपल में ओमिक्रोन होने का पता चला।

30 प्रतिशत सैंपल में ओमिक्रोन होने की पुष्टि

इस तरह, लगभग 30 प्रतिशत सैंपल में ओमिक्रोन होने की पुष्टि हुई। स्वास्थ्य विभाग से मिली जानकारी के अनुसार, 47 सैंपल में 32 में अन्य वैरिएंट मिले हैं, जबकि एक में डेल्टा मिला है। बता दें कि इससे पहले नवंबर तथा दिसंबर माह में भेजे गए सैंपल में ओमिक्रोन की पुष्टि नहीं हुई थी। हालांकि अभी तक बहुत कम सैंपल की ही सिक्वेंसिंग हो पाई है।

Edited By: M Ekhlaque