रांची, राज्य ब्यूरो। Jharkhand Congress, Jharkhand Politics फुरकान अंसारी के सनसनीखेज और संगीन बयान से झारखंड के हेमंत सोरेन सरकार में कांग्रेस के चारों मंत्री और संगठन के तमाम नेता सकते में हैैं। उन्होंने कहा है कि आरपीएन सिंह हेमंत सरकार में शामिल कांग्रेस के चारों मंत्रियों से पैसे की उगाही करते हैं। सभी से महीने की बंधी-बंधाई एकमुश्त राशि की वसूली हो रही है। मंत्रियों से वसूली के लिए कितनी राशि तय है यह मंत्री और प्रभारी ही जानते हैं। इस कारण चाहकर भी कांग्रेसी मंत्री ईमानदारी से काम नहीं कर पाते हैं।

पूर्व सांसद फुरकान ने झारखंड प्रदेश कांग्रेस के प्रभारी आरपीएन सिंह पर गंभीर आरोप लगाए हैं। फुरकान ने आगे कहा कि आरपीएन जहां के रहनेवाले हैं, वहां भी उनका जनाधार नहीं है। राहुल गांधी के गुडबुक में बने हुए हैं, लेकिन नकली आदमी हैं। फुरकान ने कहा कि ये सभी बातें आरपीएन सिंह के मुंह पर भी कहूंगा। प्रदेश प्रभारी ने झारखंड को ऐशगाह बना लिया है और सिर्फ नशेबाजी करने के लिए झारखंड आते हैं।

 इस मुद्दे पर कोई भी खुलकर सीधा कुछ बोलने से परहेज कर रहा है। ऐसे में सभी पार्टी आलाकमान की ओर देख रहे हैं। कुछ दिन पहले भी फुरकान ने राहुल गांधी के खिलाफ बयान देकर कांग्रेस आलाकमान के सामने मुश्किलें पैदा कर दी थीं। उन्हें नवंबर में कारण बताओ नोटिस भी दिया गया था, लेकिन उन्होंने इसका अबतक कोई जवाब नहीं दिया है। अब एक बार फिर उन्होंने प्रदेश प्रभारी के खिलाफ बयान देकर नेतृत्व के सामने मुसीबत पैदा कर दी है। फुरकान ने सिर्फ कांग्रेस के लिए ही नहीं, बल्कि अपने पुत्र विधायक इरफान अंसारी के लिए भी समस्याएं पैदा कर दी हैं जो प्रदेश कांग्रेस में कार्यकारी अध्यक्ष भी हैं। 

पिछली बार कहा था, राहुल क्या बोले लोगों को समझ में नहीं आया

नवंबर महीने में बिहार विधानसभा चुनाव में पार्टी और गठबंधन की हार के बाद पत्रकारों से बात करते हुए पूर्व सांसद ने कहा था कि कहलगांव में राहुल गांधी भाषण देने आए थे तो गोड्डा से भी कई लोग पहुंचे थे, लेकिन राहुल ने सभी को निराश किया। लोगों को समझ में नहीं आया कि राहुल गांधी क्या बोल गए। राहुल को नसीहत दी कि उन्हें स्थानीय मुद्दों पर बात करनी चाहिए थी, राष्ट्रीय मुद्दों पर नहीं। इस बयान को गंभीरता से लेते हुए पार्टी ने उन्हें कारण बताओ नोटिस भी दिया था। 

कांग्रेस में यह नहीं चलता, कार्रवाई केंद्रीय कमेटी करेगी : रामेश्वर

कांग्रेस के प्रदेश अध्यक्ष सह वित्त मंत्री रामेश्वर उरांव ने इस मामले पर अपनी प्रतिक्रिया में कहा कि पार्टी में ऐसा कुछ नहीं चलता है। पता नहीं, फुरकान ने ऐसा क्यों कहा है। पिछली बार उन्हें ऐसी ही बयानबाजी पर कारण बताओ नोटिस दिया गया था, जिसका जवाब अभी तक नहीं आया है। अब आगे का निर्णय केंद्रीय नेतृत्व करेगा। हमें कुछ बोलने से मना किया गया है। 

बेबुनियाद बातें हैं, कुछ नहीं बोलना : आलमगीर

कांग्रेस विधायक दल के नेता और ग्रामीण विकास मंत्री ने पूर्व सांसद फुरकान अंसारी के बयान को बेबुनियाद करार देते हुए कहा कि इस मामले में उन्हें कुछ नहीं बोलना है। आलमगीर अपने क्षेत्र से देर शाम रांची स्थित आवास पर पहुंचे। यहां उन्होंने इस मसले पर टिप्पणी करने से इन्कार करते हुए संकेत दिए कि केंद्रीय नेतृत्व मामले में कार्रवाई करेगा।

ना मुझे किसी ने कुछ दिया ना मैंने किसी को : बन्ना

स्वास्थ्य मंत्री बन्ना गुप्ता ने इस मामले में अपनी प्रतिक्रिया देते हुए कहा कि आज तक ना मुझे किसी ने पैसा दिया है और ना मैंने किसी को दिया। उन्होंने इसके आगे जोड़ा कि कौन क्या कह रहा है, इस पर प्रतिक्रिया के लिए मैं अधिकृत भी नहीं हूं। उन्होंने कहा के पूरे प्रकरण पर संगठन में संबंधित लोग और सीनियर नेता जवाब देंगे।

शॉर्ट मे जानें सभी बड़ी खबरें और पायें ई-पेपर,ऑडियो न्यूज़,और अन्य सर्विस, डाउनलोड जागरण ऐप

budget2021