रांची, राज्य ब्यूरो। Jharkhand Mining Scam राजनीति में एक समान समीकरण कभी नहीं रहते। समय के साथ यह बदलता रहता है। यही वजह है कि झारखंड में वर्ष 2019 में विधानसभा चुनाव के दौरान तत्कालीन मुख्यमंत्री रघुवर दास को हराने वाले सरयू राय अब मुख्यमंत्री हेमंत सोरेन के खिलाफ भी ताल ठोक रहे हैं। वर्ष 2019 में सरयू राय और हेमंत सोरेन एक-दूसरे की तारीफ करते नहीं थकते थे। हेमंत सोरेन ने भाजपा से टिकट नहीं मिलने पर सरयू राय को चुनाव में समर्थन करने की घोषणा तक की थी।

खनन घोटाला के आरोप पत्र में दोनों का नाम

सरयू राय भी हेमंत सोरेन का चुनाव प्रचार करने दुमका पहुंच गए थे। चुनाव में जमशेदपुर पूर्व से रघुवर दास को हराने में सरयू राय ने कामयाबी पाई तो हेमंत सोरेन भाजपा को पछाड़ कर मुख्यमंत्री की कुर्सी तक पहुंच गए। हेमंत सोरेन को मुख्यमंत्री के पद पर रहते हुए 1000 दिन से ज्यादा बीत गए हैं। अब सरयू राय और हेमंत सोरेन के रिश्ते में पहले की तरह गर्मजोशी नहीं रही।

अवैध वसूली में दोनों नेताओं का एजेंट प्रेम प्रकाश

सरयू राय अब उनके कार्यकाल को भ्रष्टाचार से भरा बता रहे हैं। मंगलवार को उन्होंने यह मांग कर दी कि हेमंत सोरेन और रघुवर दास को ईडी समन करे। 1000 करोड़ के खनन घोटाला के आरोप पत्र में दोनों का नाम सामने आया है। अवैध वसूली में प्रेम प्रकाश दोनों का एजेंट है। कोर्ट में ईडी के आरोप पत्र के अनुसार 2015-19 के बीच 237 रेक और 2020-22 के बीच 117 रेक खनिज की बिना चालान ढुलाई हुई है।

अफसरों व नेताओं का चहेता प्रेम प्रकाश जेल में

प्रेम प्रकाश झारखंड में अफसरों और कई नेताओं का चहेता है। ईडी ने उसे पिछले दिनों रांची से गिरफ्तार किया था। प्रेम प्रकाश के यहां से दो एके-47 भी मिले थे, जो उसे अवैध तरीके से सुरक्षा दे रहे रांची पुलिस के जवानों के थे। दोनों जवान मुख्यमंत्री की सुरक्षा में तैनात थे। इसकी जांच चल रही है। ईडी ने चार्जशीट में पाया है कि पंकज मिश्रा के जरिए प्रेम प्रकाश ने 1000 करोड़ से अधिक का अवैध खनन किया। पंकज मिश्रा मुख्यमंत्री हेमंत सोरेन का विधायक प्रतिनिधि है। वह भी जेल में है।

Edited By: M Ekhlaque

जागरण फॉलो करें और रहे हर खबर से अपडेट