रांची, राज्य ब्यूरो। दुमका और बेरमो उपचुनाव की तिथियों की घोषणा के साथ राज्य में राजनीतिक सरगर्मी तेज हो गई है। उपचुनाव सत्तारूढ़ झामुमो, कांग्रेस और राजद गठबंधन की अग्निपरीक्षा होगी। यही वजह है कि मुख्यमंत्री हेमंत सोरेन ने इसकी कमान अपने हाथ में थाम रखी है। उन्होंने अपने विश्वस्त नेताओं को मोर्चे पर लगाया है। उधर, भाजपा की अगुवाई वाला एनडीए इसे बढ़त बनाने के मौके के तौर पर ले रहा है।

भाजपा ने दोनों सीटों पर प्रत्याशी उतारने की रणनीति बनाई है। इसमें सहयोगी आजसू पार्टी का साथ मिलने की संभावना है। पूर्व में आजसू पार्टी ने बेरमो में दावेदारी की थी, लेकिन केंद्र सरकार में प्रतिनिधित्व का आश्वासन मिलने के बाद फिलहाल आजसू के सुर नरम हैं। दुमका में प्रत्याशियों के नाम भी लगभग तय हैं। मुख्यमंत्री हेमंत सोरेन द्वारा सीट छोड़े जाने के बाद उनके अनुज बसंत सोरेन यहां लगातार सक्रिय हैं। बसंत सोरेन झामुमो की युवा शाखा के अध्यक्ष हैं।

मंगलवार को दुमका से झारखंड मुक्ति मोर्चा (झामुमो) के कार्यकर्ताओं ने बसंत सोरेन को बतौर प्रत्याशी उतारने का आग्रह शीर्ष नेतृत्व से किया है। बसंत सोरेन मुख्यमंत्री हेमंत सोरेन के छोटे भाई हैं और झामुमो की युवा शाखा के केंद्रीय अध्यक्ष हैं। झामुमो महासचिव सुप्रियो भट्टाचार्य ने कहा कि कार्यकर्ताओं की भावना के अनुरूप जल्द ही प्रत्याशी के नाम की आधिकारिक घोषणा की जाएगी।

बेरमो में झारखंड मुक्ति मोर्चा ने कांग्रेस को समर्थन देने की घोषणा पूर्व में कर दी है। उनके मुकाबले भाजपा से डा. लुइस मरांडी को उतारने की प्रबल संभावना है। 2014 के विधानसभा चुनाव में लुइस मरांडी ने यहां से तत्कालीन मुख्यमंत्री हेमंत सोरेन को परास्त करने में कामयाबी पाई थी।

बेरमो में ऊहापोह

बेरमो में भाजपा प्रत्याशी के नाम पर फिलहाल सहमति नहीं बन पाई है। योगेश्वर महतो बाटुल यहां पूर्व में चुनाव लड़ते आए हैं, लेकिन इस दफा नया चेहरा लाने की भी तैयारी की जा रही है। इसमें गिरिडीह के पूर्व सांसद रवींद्र पांडेय का नाम आगे चल रहा है। प्रदेश भाजपा के एक वरीय नेता के मुताबिक जल्द ही उम्मीदवार के नाम की घोषणा की जाएगी। बेरमो सीट पूर्व मंत्री राजेंद्र प्रसाद सिंह के असामयिक निधन से रिक्त हुई है।

यहां उनके बड़े पुत्र कुमार जयमंगल उर्फ अनूप सिंह की उम्मीदवारी लगभग तय है। जल्द ही इसकी आधिकारिक घोषणा होगी। राजेंद्र प्रसाद सिंह के निधन के बाद से वे क्षेत्र में सक्रिय हैं। अनूप सिंह युवा कांग्रेस के प्रदेश अध्यक्ष रह चुके हैं। फिलहाल उन्होंने श्रमिक संगठनों पर अपना ध्यान केंद्रित कर रखा है। उनके छोटे भाई कुमार गौरव युवा कांग्रेस के प्रदेश अध्यक्ष हैं।

कोरोना से बचाव के लिए इन दिशा-निर्देशों का किया जाएगा पालन

  • प्रचार के लिए घर-घर जाकर पांच लोगों को जनसंपर्क की अनुमति होगी। रोड शो और चुनावी रैली के लिए गृह मंत्रालय की गाइडलाइन का अनुपालन करना होगा। चुनाव प्रचार में शारीरिक दूरी के नियमों का सख्ती से अनुपालन करना होगा।
  • मतदान केंद्रों पर भीड़-भाड़ न हो, इसके लिए एक मतदान केंद्र पर अधिकतम 1000 मतदाता होंगे।
  • मतदान केंद्रों पर मास्क पहना अनिवार्य होगा। शारीरिक दूरी का पूरा ख्याल रखा जाएगा। ऐसे केंद्रों पर वहां मतदानकर्मी पीपीई किट पहनकर रहेंगे। मतदान के समय मतदाता ईवीएम (इलेक्ट्रॉनिक वोटिंग मशीन) को नहीं छू सकें, इसकी भी व्यवस्था की जाएगी। मतदानकर्मी पारदर्शी प्लास्टिक सीट के पीछे रहेंगे।
  • मतदाताओं की थर्मल स्क्रीनिंग के बाद ही पोलिंग बूथ के अंदर जाने दिया जाएगा। तापमान अधिक होने पर अंतिम एक घंटे में मतदान की अनुमति दी जाएगी।

इंडियन टी20 लीग

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस