रांची, राज्य ब्यूरो। Arun Jaitley Passes Away पूर्व केंद्रीय अरुण जेटली अब हमारे बीच नहीं हैं, लेकिन उनसे जुड़ी यादों को झारखंड ने भी संजो रखा है। उनका प्रखर व्यक्तित्व और सहज स्वभाव सभी को प्रभावित करता था। यही वजह है कि झारखंड में सत्ता पक्ष के साथ-साथ विपक्ष के भी तमाम शीर्ष नेताओं ने उनके निधन पर शोक व्यक्त कर दिवंगत आत्मा की शांति की प्रार्थना की है।

वैसे तो अरुण जेटली की झारखंड से बहुत सी यादें जुड़ी हैं लेकिन झारखंड विधानसभा चुनाव से पूर्व उनके रांची आगमन को भाजपा कभी भुला नहीं सकती। वर्ष 2014 के झारखंड विधानसभा चुनाव से पहले 11 नवंबर को पूर्व केंद्रीय मंत्री अरुण जेटली, राष्ट्रीय अध्यक्ष अमित शाह के साथ रांची आए थे। दोनों शीर्ष नेताओं ने पार्टी का चुनाव घोषणापत्र जारी किया था। इसी घोषणापत्र के वादों को केंद्र में रखकर भाजपा जनता के बीच गई थी और पहली बार झारखंड में भाजपा की पूर्ण बहुमत की सरकार बनीं थी। राज्य ही यह पहली सरकार है जो अपने पांच साल का कार्यकाल सफलता पूर्वक पूरा करने जा रही है, जाहिर है इस सरकार की नींव उस घोषणापत्र ने रखी थी जिसे पूर्व केंद्रीय मंत्री जारी किया था। अब झारखंड में विधानसभा चुनाव करीब है, लेकिन जेटली इस बार घोषणा पत्र को जारी करने के लिए मौजूद नहीं होंगे। 

कहा था, जनता को अपना स्वभाव बदलना होगा...
पूर्व राज्यसभा सदस्य अजय मारू पूर्व केंद्रीय मंत्री अरुण जेटली से जुड़ी यादें साझा करते हुए कहते हैं कि उनका स्वभाव काफी सरल था। जब वे राज्यसभा में पार्टी के उपनेता थे तो उनके साथ काम करने का मौका मिला। सदन में हमारी संख्या कम थी बावजूद इसके वे हम सबका हौसला बढ़ाते रहते थे। केंद्रीय वित्तमंत्री रहने के दौरान भी उनसे जब मिलने का वक्त मांगा, उन्होंने तुरंत बुला लिया।

पिछले विधानसभा चुनाव में जब भाजपा का चुनाव घोषणापत्र जारी किया गया तो मंच का संचालन अजय मारू ही कर रहे थे। भाजपा ने विधानसभा चुनाव में चुनाव घोषणापत्र को जारी करते हुए भ्रष्टïाचार मुक्त सुशासन का वादा किया था। तब जेटली ने कहा था, 'मतदाताओं को अपना स्वभाव बदलना होगा। जनता को तय करना होगा कि उसे पूर्ण बहुमत की सरकार चाहिए या सौदेबाजी की सरकार। 

ग्लोबल इंवेस्टर समिट के उद्घाटन का हिस्सा बने थे जेटली
पूर्व केंद्रीय मंत्री अरुण जेटली ग्लोबल इंवेस्टर समिट के उद्घाटन सत्र का हिस्सा भी बने थे। समिट में अपने उद्गार व्यक्त करने के बाद मीडिया से बातचीत में जेटली ने रॉयल्टी से जुड़े कानून पर केंद्र सरकार का रुख स्पष्ट किया था। उन्होंने नोटबंदी पर सरकार के पक्ष को रखा था। कहा था कि इस देश के जनजीवन व व्यवसाय की शैली को बदलने की जरूरत लंबे समय से महसूस की जा रही थी। अब केवल कैश करेंसी ही नहीं चल सकती।

सीएम रघुवर दास ने दी श्रद्धांजलि
झारखंड के मुख्‍यमंत्री रघुवर दास ने रविवार को भाजपा मुख्‍यालय, दिल्‍ली में दिवंगत अरुण जेटली के पार्थिव शरीर पर पुष्‍पांजलि अर्पित की। जेटली के अंतिम दर्शन कर सीएम ने ईश्‍वर ने उनकी आत्‍मा की शांति की प्रार्थना की।

Posted By: Alok Shahi

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस