रांची, जासं। सीबीएसई और सीआइएससीई बोर्ड के बाद अब जैक (झारखंड एकेडमिक काउंसिल) पाठ्यक्रम को कम करेगी, ताकि छात्रों को पाठ्यक्रम पूरा करने में राहत मिल सके। कोरोना की वजह से सत्र काफी पीछे चल रहा है। छात्र कक्षाएं भी नहीं कर पाए हैं। ऐसे में कम समय में सिलेबस को पूर्ण करना संभव नहीं है। शिक्षा मंत्री जगरनाथ महतो ने बताया कि जल्द ही इस दिशा में फैसला लिया जाएगा, ताकि छात्रों को भी पाठ्यक्रम को लेकर स्थिति स्पष्ट हो सके।

वर्ष 2021 के छात्रों के लिए इसकी व्यवस्था लागू की जाएगी। सीबीएसई 30 फीसद तक सिलेबस को कम करेगा। लेकिन, जैक कितना फीसद सिलेबस को कम करेगी, इस पर तत्काल कोई फैसला नहीं लिया गया है। इस पर समीक्षा के बाद ही कम करने पर निर्णय लिया जाएगा।

मॉडल प्रश्न पत्र देकर छात्रों को कराई जाएगी तैयारी

जैक का प्रयास है कि छात्रों को मॉडल प्रश्न देकर उन्हें प्रैक्टिस कराया जाए। पहले भी इसकी व्यवस्था थी, लेकिन व्यवस्था सीमित थी। पर अब लक्ष्य है कि अधिक से अधिक बार मॉडल प्रश्न पत्र से छात्रों को प्रैक्टिस कराया जाए, ताकि अधिकतर पाठ्यक्रम का कवर मॉडल प्रश्न पत्र के माध्यम से किया जा सके। जैक का भी मानना है कि मॉडल प्रश्न पत्र से पहले भी रिजल्ट में सुधार हुआ है। इसलिए इस दिशा में अधिक बल दिया जा रहा है।

इंडियन टी20 लीग

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस