रांची, जासं। रांची के पिठोरिया इलाके में एक नाबालिग लड़की का निकाह करवाए जाने का मामला सामने आया है। इसकी शिकायत मिलने के बाद सीडब्ल्यूसी यानि बाल कल्‍याण समिति रांची ने संज्ञान में लेकर मामले की जांच शुरू कर दी है। बच्ची का बयान भी सीडब्ल्यूसी की ओर से लिया गया है। जबकि पिठोरिया थाने की पुलिस को इसकी जांच कर पूरी रिपोर्ट सौंपने का निर्देश दिया गया है। सीडब्ल्यूसी ने जांच पूरी होने तक विवाह संबंधित रीति-रिवाज करने पर फिलहाल रोक लगा दी है।

साथ ही पिठोरिया थाना को नाबालिग लड़की की उम्र की पुष्टि के लिए उचित दस्तावेज सीडब्ल्यूसी में प्रस्तुत करने का आदेश दिया है। नाबालिग के बड़े पिताजी ने पिठोरिया थाना में शिकायत दर्ज कराई है। इसमें नाबालिग को बहला-फुसलाकर अपहरण करने के बाद शादी करने और शारीरिक संबंध बनाने का आरोप लगाया गया है। परिजनों का आरोप है कि इमरान अंसारी नाम के युवक ने उनकी बेटी को झांसे में लेकर अगवा कर लिया। इसके बाद उसे रांची स्थित शहर काजी के पास ले गया और नाबालिग होने के बावजूद उससे निकाह किया।

इसके बाद नाबालिग के साथ दुष्कर्म किया। इसकी शिकायत मिलने के बाद आरोपित को हिरासत में लिया गया है। हालांकि बताया जा रहा है कि लड़की की मां और लड़की आरोपित के पक्ष में ही है। वे मामले में कार्रवाई नहीं करवाना चाहते हैं। पिठोरिया थाना प्रभारी रविशंकर के अनुसार मामले की जांच की जा रही है। लड़की की उम्र का सत्यापन किया जा रहा है। सत्यापन के बाद ही आगे की कार्रवाई होगी।

नाबालिग की मां की अश्लील तस्वीर दिखाकर आरोपी दे रहा है धमकी

पुलिस को दिए गए आवेदन में कहा गया है कि निकाह के बाद आरोपित ने धमकी देते हुए नाबालिग को वापस घर छोड़ दिया। साथ ही कहा कि यदि किसी को बताया तो जान से मार देंगे। साथ ही नाबालिग को उसकी मां की अश्लील तस्वीर भी दिखाई और कहा कि यदि तुमने निकाह और शारीरिक संबंध के बारे में किसी को बताया तो तुम्हारी मां की तस्वीर वायरल कर दूंगा।

घटना के बाद नाबालिग ने चुप्पी साध ली है और उसकी मां भी घटना के दिन जानकारी नहीं दी। इसके बाद बीते तीन जून को आरोपित घर आया और उसने नाबालिग को ले जाने का प्रयास किया। विरोध करने पर नाबालिग के चाचा से मारपीट की और धमकी दी कि यदि बेटी को मेरे साथ नहीं भेजते हो तो मां-बेटी को बदनाम कर देंगे। बदनामी के डर से ही वे लोग चुप्पी साध रखे हैं।

जांच प्रक्रिया पूरी होने तक पुलिस करेगी निगरानी

मामले को लेकर बाल कल्याण समिति की अध्यक्ष रूपा कुमारी की ओर से आदेश दिया गया है कि जांच प्रक्रिया पूरी होने तक शादी की प्रक्रिया पर रोक रहेगी। पुलिस लड़की पर निगरानी करेगी। सीडब्ल्यूसी की सदस्य तनुश्री सरकार ने बताया कि मामला संज्ञान में आने के बाद बच्ची को प्रस्तुत किया गया। संबंधित थाने को बच्ची का वैध दस्तावेज प्रस्तुत करने का आदेश दिया है। इसलिए जब तक सीडब्लूसी से आदेश न हो, विवाह संबंधी प्रक्रिया पर रोक रहेगी।

Edited By: Sujeet Kumar Suman