संवाद सहयोगी, कोडरमा: कांग्रेस विधायक उमाशंकर अकेला ने सोमवार को चंदवारा में एक प्रेस कांफ्रेस आयोजित कर राज्य में सरकार गिराने की साजिश में खुद का नाम शामिल किए जाने पर तीखी प्रतिक्रिया व्यक्त करते हुए कहा कि एक साजिश के तहत मेरा नाम घसीटा जा रहा है। कोई तीन विधायक मिलकर सरकार कैसे गिरा सकता है। यह सोचने वाली बात है, क्या इस तरह संभव हो सकता है। सरकार गिराने के लिए 12 से 13 विधायकों की आवश्‍यकता होगी। तीन विधायक सरकार गिरा देंगे यह कैसे संभव है। उन्होंने कहा कि विधायक अमित यादव और इरफान अंसारी के साथ दिल्ली जाना महज संयोग था। दिल्ली जाकर इरफान अंसारी के बीमार पिता फुरकान अंसारी से मिलकर उनका हालचाल लिया और अगले ही दिन वापस लौट आया।

मैं पूरी तरह कांग्रेस पार्टी के सिद्धांतों के साथ हूं। सरकार को किसी तरह का कहीं से कोई खतरा नहीं है। कांग्रेस पार्टी के सारे विधायक एकजुट हैं। जब ये पूछा गया कि आप तो पूर्व में भाजपा में रह चुके हैं और वहां के लोगों से आपकी पुरानी पहचान है तो उन्होंने कहा कि वे कभी भी भाजपा के सिद्धांतों से सहमत नहीं थे। उनकी विचारधारा लोहिया और कर्पूरी के सिद्धांतों से प्रभावित है। भाजपा का टिकट भी मैं कभी मांगने नहीं गया था। भाजपा ने खुद मुझे बुलाकर सम्मान से टिकट दिया था। अगर कोई षडयंत्र लगता है तो पूरे मामले की निष्पक्ष जांच की जाए, सबकुछ साफ हो जाएगा। बोले, दिल्ली में मेरा लोकेशन भी देखा जा सकता है। जिस पीएनआर में हम लोगों के साथ दो और लोगों का नाम होने की बात कही जा रही है, वह इत्तेफाक है। जो लोग पुलिस के गिरफ्त में आए उनसे कभी कोई संपर्क नहीं रहा। एक हर्षवद्र्धन नाम का व्यक्ति केवल मेरे साथ गया था। पूरी साजिश के तहत मेरा नाम घसीटा जा रहा है।

यह भी पढ़ें

हेमंत सरकार गिराने की साजिश रचने में दो महाराष्‍ट्र के विधायक भी शामिल, एक विधायक पुलिस गिरफ्त में

https://www.jagran.com/jharkhand/ranchi-conspiracy-to-topple-hemant-govt-maharashtra-two-mla-play-vital-role-one-mla-arrested-21861708.html

Edited By: Uttamnath Pathak