जागरण संवाददाता, रांची: सौंदर्य प्रसाधन और सजने-संवरने पर महिलाओं का एकाधिकार खत्म हो रहा है। आज के इस दौर में पुरुषों में भी आकर्षक दिखने की चाहत बढ़ती जा रही है। यही वजह है कि रांची में मेट्रो सिटी की तर्ज पर कई बड़े स्थापित ब्रांड्स के मेंस पार्लर खुल चुके हैं। बॉलीवुड अभिनेताओं और क्रिकेटरों के लुक्स से प्रेरित होकर युवा इन पार्लरों में भीड़ जुट रही है। ये युवा अपने बालों तथा चेहरे पर हजारों रुपये खर्च कर रहे हैं ताकि वे भी स्मार्ट दिख सकें।

---

कामकाजी पुरुष चेहरे तो युवा बालों पर ज्यादा कर रहे खर्च

जावेद हबीब में हेयर स्टाइलिस्ट प्रकाश कुमार वर्मा ने बताया कि 20 से 35 साल के अधिकांश युवा बीयर्ड लुक पसंद कर रहे हैं। सर्फ शेविंग कर चेहरा चमकाने का दौर अब जा चुका है। अब लोग सुंदर दिखने की चाहत में बीयर्ड स्पा, हेयर ग्लॉस ट्रीटमेंट, बीयर्ड कलर, डी टैनिंग, व्हाइटनिंग ट्रीटमेंट, एंटी एजिंग ट्रीटमेंट और टैनिंग ट्रीटमेंट लेना पसंद करते हैं। वे कहते हैं कि नौकरीपेशा लोग चेहरे पर अधिक ध्यान दे रहे हैं जबकि कॉलेज में पढ़ने वाले युवा अपने बालों पर अधिक खर्च कर रहे हैं। वे कहते हैं कि नियमित ग्राहकों के लिए उनके पास मंथली पैक की भी व्यवस्था है। ऐसे ग्राहकों को 25 से 35 फीसद छूट दी जाती है।

---

एंटी-एजिंग तकनीक का बढ़ रहा चलन

केल्विन हॉब्स के सुमित बताते हैं कि लोग युवा और बेदाग त्वचा पाने के लिए इन दिनों नॉन सर्जिकल उपचारों अर्थात बोटोक्स और जुवेडर्म फिलर्स का चलन बढ़ा है। ऐसी एंटी-एजिंग तकनीकें इन दिनों ज्यादा लोकप्रिय हो रही हैं। इसके अलावा लोग फेशियल, डी-टैनिंग, हेयर स्पा, कैरेटिन ट्रीटमेंट और बीयर्ड स्पा करा रहे हैं।

काया में काम कर रहे अस्मत कहते हैं कि पार्लर में सभी उम्र के लोग आते हैं। नौकरीपेशा व्यक्ति अपने स्किनकेयर के लिए सीरम और एंटी-एजिंग क्रीम को रूटीन का जरूरी हिस्सा मानते हैं। उनके अनुसार ऐसे पार्लरों में आने वाले युवा औसतन तीन से चार हजार रुपये अपने लुक्स पर खर्च कर रहे हैं।

--

तेजी से बढ़ रहा मेंस ग्रूमिंग का बाजार

ब्लैक एंड व्हाइट में हेयर स्टाइलिश ऋषि के अनुसार पुरुषों के ब्यूटी प्रॉडक्ट्स में आय के लिहाज से फिलहाल दाढ़ी बनाने के उत्पादों का बाजार सर्वाधिक है। ओरीफेम रांची की गोल्ड डायरेक्टर प्रियंका गुप्ता बताती हैं कि मेंस ग्रूमिंग का मार्केट पिछले कुछ सालों में तेजी से बढ़ा है। शहर में हर महीने लाखों रुपये के मेन्स प्रोडक्स का कारोबार हो रहा है।

-----

स्मार्ट दिखने से ज्यादा स्मार्ट महसूस करना जरूरी है। महीने का पांच या छह हजार खर्च करने वाले मेरे जैसे कामकाजी या नौकरी पेशा लोगों के लिए यह जरूरत की तरह है।

2018 में एचोसैम की रिपोर्ट के अनुसार 25 से 45 वर्ष के पुरुषों ने मेकअप और ब्यूटी प्रोडक्ट्स पर खर्च के मामले में महिलाओं को पीछे छोड़ दिया है। इसी रिपोर्ट के अनुसार 2021 तक मेंस कॉस्मेटिक्स का बाजार 35000 करोड़ तक पहुंच जाएगा।

राजन कुमार, सर्विस प्रोफेशनल

Posted By: Jagran

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप