रांची, राज्य ब्यूरो। मनी लांड्रिंग के आरोप में फंसे उषा मार्टिन कंपनी के महाप्रबंधक मार्केटिंग प्रमोद कुमार फतेपुरिया की अग्रिम जमानत याचिका पर ईडी यानि प्रवर्तन निदेशालय के विशेष न्यायाधीश पीके शर्मा की अदालत में आंशिक सुनवाई हुई। अदालत ने अगली सुनवाई की तिथि 20 नवंबर निर्धारित की है। प्रमोद कुमार की ओर से 11 जून को अग्रिम जमानत याचिका दाखिल की गई थी।

प्रवर्तन निदेशालय ने उषा मार्टिन के खिलाफ 190 करोड़ रुपये से जुड़े हुए आयरन ओर के केस में चार्जशीट दाखिल की है। उषा मार्टिन ग्रुप और उसके अधिकारियों के खिलाफ आयरन ओर के खदान में गड़बड़ी करने को लेकर शुरुआत में सीबीआइ ने मामला दर्ज किया था। बाद में मनी लांड्रिंग एक्ट के तहत मामला दर्ज किया गया है।

चारा घोटाला मामले में तीन आपूर्तिकर्ताओं की ओर से बहस पूरी

डोरंडा कोषागार से 139.35 करोड़ रुपये की अवैध निकासी से जुड़े चारा घोटाले के सबसे बड़े मामले में शनिवार को तीन आपूर्तिकर्ताओं की ओर से उनके अधिवक्ताओं ने अदालत में दलीलें रखीं। इसमें राकेश गांधी, संजय कुमार एवं बलदेव साहू का नाम शामिल है। मामले की सुनवाई सीबीआइ के विशेष न्यायाधीश एसके शशि की अदालत में हो रही है। बहस के दौरान अधिवक्ताओं ने तीनों आरोपितों को इस मामले में निर्दोष बताया।

अब तक 21 आरोपितों की ओर से बहस पूरी कर ली गई है। अदालत ने इस मामले में अगली सुनवाई की तिथि 28 सितंबर निर्धारित की है। बता दें कि उक्त मामले में बिहार के पूर्व मुख्यमंत्री लालू प्रसाद, पूर्व सांसद जगदीश शर्मा, डा. आरके राणा, पीएसी के तत्कालीन अध्यक्ष ध्रुव भगत, सेवानिवृत्त आइएएस बेक जूलियस समेत 112 आरोपित मुकदमे का सामना कर रहे हैं।

Edited By: Sujeet Kumar Suman