रांची, जेएनएन। Google Search, Govt Warns Google Chrome Users इंडियन कंप्यूटर इमरजेंसी रिस्पांस टीम, CERT ने वेब ब्राउसर गूगल क्रोम को लेकर चौंकाने वाली जानकारी दी है। इसमें कुछ बग लगा है, जो यूजर्स की सुरक्षा में सेंध लगा सकता है। सीईआरटी के मुताबिक डेस्कटॉप के लिए क्रोम ब्राउजर में कुछ प्रमुख कमजोरियां देखी गई हैं। जिस पर Google ने इन कमजोरियों को स्वीकार किया और एक सॉफ्टवेयर अपडेट के माध्यम से इसका समाधान करते हुए तुरंत सुधार करने का निर्देश जारी किया है।

जिन गूगल क्रोम यूजर्स को हाई लेवल खतरे की चेतावनी दी गई है, उनमें विंडोज, मैक और लिनक्स ऑपरेटिंग सिस्‍टम वाले शामिल हैं। गूगल ने क्रोम अपडेट को रोल आउट करना शुरू कर दिया है। इंडियन कंप्यूटर इमरजेंसी रिस्पांस टीम (सीईआरटी-इन) की ओर से कहा गया है कि गूगल क्रोम यूजर्स को हाई लेवल खतरे की चेतावनी दी गई है। इस साइबर क्राइम नोडल एजेंसी ने डेस्कटॉप के लिए क्रोम ब्राउजर में बड़ी खामियां उजागर की हैं। क्रोम उपयोगकर्ता को तुरंत इसके अपडेट वर्जन से क्रोम को अपडेट करने की हिदायत दी गई है।

इधर, Google ने इन कमजोरियों को स्वीकार किया और एक सॉफ्टवेयर अपडेट जारी किया है। Google ने एक आधिकारिक बयान में कहा कि अगर यूजर्स के लाइब्रेरी में बग मौजूद है, तो हम क्रोम पर प्रतिबंध बरकरार रखेंगे। अभी तक इसे ठीक नहीं किया गया है। बग विवरण और लिंक तक पहुंच को तब तक प्रतिबंधित रखा जा सकता है, जब तक कि अधिकांश यूजर्स इसे फिक्स के साथ अपडेट नहीं कर लेते।

जानें क्‍या है पूरा मामला

साइबर क्राइम नोडल एजेंसी ने इस बात पर प्रकाश डाला कि 101.0.4951.41 से पहले का Google क्रोम वर्जन सॉफ्टवेयर में एक नई खामी से प्रभावित हुआ है। खतरा मुख्य रूप से केवल डेस्कटॉप उपयोगकर्ताओं के लिए है। Google ने इस खामी को स्वीकार किया है और क्रोम ब्लॉग पोस्ट पर 30 खामियों को सूचीबद्ध किया है। इनमें से 7 कमियों को उच्चस्‍तरीय खतरा के रूप में चिह्नित किया गया है। बताया गया है कि इन उच्चस्तरीय खामियों का का फायदा हैकर्स द्वारा उठाया जा सकता है। इससे मनमाने कोड के जरिये आपके कंप्‍यूटर और निजी व संवेदनशील जानकारी तक हैकर पहुंच सकता है। बताया गया है कि एजेंसी ने जिन 7 बड़ी खामियों को उजागर किया है, वे हैकर्स को सुरक्षा प्रतिबंधों को बायपास करने में सक्षम बनाते हैं। गूगल क्रोम ब्राउजर में दो खामियां मौजूद हैं उनमें वल्कन, स्विफ्टशैडर, एंगल, डिवाइस एपीआई, शेरिन सिस्टम एपीआई, ओजोन, ब्राउजर स्विचर, बुकमार्क्स, देव टूल्स और फाइल मैनेजर प्रमुख हैं।

अपना क्रोम ब्राउजर तुरंत अपडेट करें

सीईआरटी-इन ने सभी क्रोम डेस्कटॉप उपयोगकर्ताओं से ब्राउजर को तुरंत अपग्रेड करने का आग्रह किया है। एजेंसी ने कहा कि इससे पहले का कोई भी वर्जन साइबर हमलों के लिए अतिसंवेदनशील हो सकता है, जिससे यूजर्स को उनके संवेदनशील डेटा का नुकसान हो सकता है। विंडोज, मैक और लिनक्स में इन कमजोरियों की पहचान की गई है। Google ने विंडोज, मैक और लिनक्स के लिए क्रोम अपडेट को प्रभावी बनाना शुरू कर दिया है। अपडेट आने वाले दिनों में सभी यूजर्स तक पहुंच जाएंगे।

क्रोम को कैसे अपडेट करें

एक बार अपडेट उपलब्ध होने के बाद क्रोम ब्राउजर को अपने आप अपडेट हो जाना चाहिए। लेकिन अगर ऐसा नहीं होता है, तो सबसे पहले आप क्रोम ब्राउजर खोलें। फिर दाएं कोने में जाकर डॉट्स आइकन पर क्लिक करें। ड्रॉप डाउन मेनू में सेटिंग पर जाकर हेल्‍प पर क्लिक करें। इसके बाद Google क्रोम का कोई भी पेंडिंग अपडेट सिस्‍टम अपने आप डाउनलोड कर लेगा। एक बार अपडेट इंस्टॉल हो जाने के बाद क्रोम बंद हो जाएगा और फिर से रिर्स्‍टाट हो जाएगा।

Edited By: Alok Shahi

जागरण फॉलो करें और रहे हर खबर से अपडेट