बरलंगा(रामगढ़), जासं। मुख्यमंत्री हेमंत सोरेन की बहन आशा सोरेन के शादी समारोह में शामिल होने के लिए मंगलवार को राज्यपाल रमेश बैस, मुख्य न्यायाधीश डा रवि रंजन सहित राज्य भर के आला अधिकारी, मंत्री, विधायक, पक्ष-विपक्ष के नेता व गणमान्य मुख्यमंत्री का पैतृक गांव रामगढ़ जिला के बरलंगा थाना अंतर्गत नेमरा गांव पहुंचे। संथाली परंपरा व रीति-रिवाज से शादी की रस्में हुईं। देर रात बोकारो जिले के बालाडीह स्थित झाेपड़ो गांव से बरात आई। मुख्यमंत्री हेमंत सोरेन खुद ही बरातियों का स्वागत किया। मुख्यमंत्री के पिता राज्य सभा सांसद शिबू साेरेन, भाई विधायक बसंत सोरेन, माता रूपी सोरेन व पत्नी कल्पना सोरेन ने भी सभी बरातियों का स्वागत किया।

अपराह्न के बाद राज्यपाल रमेश बैस व झारखंड के मुख्य न्यायाधीश शादी समारोह में शामिल होने सीएम के पैतृक गांव नेमरा पहुंचे। मुख्यमंत्री ने स्वयं ही राज्यपाल व मुख्य न्यायाधीश का स्वागत किया। राज्यपाल व मुख्य न्यायाधीश ने मुख्यमंत्री की बहन आशा सोरेन को सुखद दांपत्य जीवन की शुभकामनाएं दीं। इससे पूर्व नेमरा पहुंचते ही राज्यपाल रमेश बैस को रामगढ़ जिला-प्रशासन ने गार्ड ऑफ ऑनर दिया गया। मुख्यमंत्री की बहन की शादी के अवसर पर नेमरा गांव को दुल्हन की तरह सजाया गया है। आकर्षक साज-सज्जा, लाइटिंग के साथ-साथ नेमरा गांव में गाड़ियों की पार्किंग के लिए विशेष व्यवस्था की गई है।

शादी के दिन नेमरा तथा आसपास के ग्रामीण काफी उत्साहित नजर आए। नेमरा पहुंचे मेहमानों ने हेमंत सोरेन से भेंटकर उन्हें इस अवसर पर बधाई एवं शुभकामनाएं दीं। सुबह से ही मुख्यमंत्री व उनकी पत्नी कल्पना सोरेन सहित परिवार के अन्य सदस्यगण शादी समारोह के अवसर पर सभी रस्मो- रिवाज को पारंपरिक ढंग से निभाते दिखे। सुबह से ही मुख्यमंत्री के नेमरा स्थित पैतृक घर पर मेहमानों का आने-जाने का तांता लगा रहा।

दोपहर में ही राज्य के श्रम मंत्री सत्यानंद भोक्ता, वित्त मंत्री रामेश्वर उरांव, राजमहल के सांसद विजय हांसदा, विधायक ममता देवी, राज्य के मुख्य सचिव सुखदेव सिंह, डीजीपी नीरज सिन्हा, ऊर्जा सचिव अविनाश कुमार, सचिव सुनील कुमार के अलावा राज्य के वरीय अधिकारियों में प्रवीण टोप्पो, अबू बकर सिद्दकी, रांची के उपायुक्त रांची छवि रंजन, लातेहार के उपायुक्त अबू इमरान, हजारीबाग के डीआइजी नरेंद्र कुमार सिंह, रामगढ़ उपायुक्त माधुरी मिश्रा, एसपी प्रभात कुमार के अलावा राज्य भर के कई आला अधिकारी, सहित कई लोग पहुंचे।

गोला से नेमरा तक मेहमानों की सुरक्षा में चप्पे-चप्पे पर तैनात दिखे पुलिस के जवान

सूबे के मुख्यमंत्री हेमंत सोरेन की चचेरी बहन की शादी में वीवीआइपी अतिथियों के आगमन को लेकर राज्य की सुरक्षा एजेंसियां सतर्क थीं। इसका नजारा गोला से लेकर नेमरा तक के रास्ते में देखने को मिला। पूरा इलाका मंगलवार को पुलिस छावनी में तब्दील दिखा। गोला से लेकर बरलंगा तक पुलिस के अधिकारी व जवान वाहनों से गश्त लगाते दिखे। डीवीसी चौक पर यातायात दुरुस्त रखने को लेकर जवानों को विशेष रूप से तैनात किया गया था। ताकि किसी भी स्थिति में वहां जाम न लगने पाए।

गोला बरलंगा मार्ग पर रह-रह कर वहां से गुजरने वाले वीआइपी व वीवीआइपी वाहनों के सायरन व हूटर की आवाज अचानक से लोगों का ध्यान अपनी ओर आकर्षित कर रही थी। बरलंगा से लेकर नेमरा तक करीब सात किलो मीटर सड़क के दोनों ओर जगह-जगह रास्ते में पुलिस के जवानों को तैनात किया गया था। राज्यपाल, मुख्य न्यायाधीश, मंत्री, मुख्यसचिव, पुलिस महानिदेशक सहित विभिन्न विभागों के प्रधान सचिव, कई जिला के उपायुक्त सहित अधिकारियों की आवाजाही इस मार्ग को खास बना रही थी। दोपहर एक बजे से लेकर देर शाम तक अतिथियों का आना-जाना इस मार्ग पर लगा रहा। रामगढ़ जिला पुलिस के जवानों के अलावा दूसरे जिला के पुलिस बल को भी सुरक्षा में तैनात किया गया था।

Edited By: Kanchan Singh