रांची, जासं। अगले साल से सरकारी स्कूल के कक्षा छठी से दसवीं तक के बच्चों को बैंकिंग सेवाओं व कार्यप्रणाली की जानकारी दी जाएगी। इसके लिए राज्य सरकार ने वित्तीय साक्षरता को सिलेबस में शामिल करने की तैयारी पूरी कर ली है। स्कूली छात्रों को ऋण और निवेश से लेकर बैंकिंग कार्यप्रणाली के बारे में विस्तार से बताया जाएगा। आरबीआइ (RBI) सहायक महाप्रबंधक राजेश तिवारी ने बताया कि आरबीआइ (RBI) की ओर से शिक्षा विभाग को कंटेंट मुहैया कराया जाएगा। इसका उद्देश्य बच्चों में वित्तीय समझ विकसित करना है।
पंख पत्रिका में भी वित्तीय साक्षरता कंटेट होगा शामिल
सिलेबस के साथ शिक्षा विभाग की ओर से प्रकाशित होने वाली पत्रिका पंख में भी वित्तीय साक्षरता के कंटेंट को शामिल किया जाएगा, ताकि छात्रों के साथ शिक्षकों को भी समय-समय पर इसकी जानकारी मिल सके।
वित्तीय नियामक संस्थाओं ने तैयार किया है कंटेंट
आरबीआइ के सहायक महाप्रबंधक राजेश आर तिवारी ने बताया कि सीबीएसई (CBSE) समेत देश के 14 राज्यों में वित्तीय साक्षरता को सिलेबस में लागू किया जा चुका है। इनमें उत्तर प्रदेश, आंध्रा प्रदेश व अन्य राज्य शामिल हैं। उन्होंने बताया कि छठी से दसवीं कक्षा तक के बच्चों के लिए अलग-अलग कंटेंट तैयार किया गया है। इसे देश के वित्तीय नियामक संस्थान आइआरडीए, पीएसआरडीएम व सेबी द्वारा तैयार किया गया है। 
ई-कॉमर्स, चेक से लेकर समझेंगे पूरा कामकाज
वित्तीय साक्षरता को सिलेबस में शामिल करने का मुख्य कारण बच्चों में वित्तीय समझ विकसित करना है। साथ ही नई पीढ़ी को बैंकिंग प्रोडक्ट और उसकी कार्यप्रणाली की जानकारी देनी है। इसके तहत बच्चों को चेक, ई-कॉमर्स, ऋण व इसके प्रकारों के बारे में पढ़ाया जाएगा। इससे दसवीं तक के बच्चों में जहां बैंकिंग सेवाओं और कार्यप्रणाली के बारे में बेहतर समझ पैदा होगी, वहीं लोन समेत बैंकिंग से जुड़े काम के लिए किसी के सहारे की जरूरत नहीं लेनी होगी। बैंकिंग का महत्व समझते हुए जरूरी सावधानियां भी बरत सकेंगे।

अगले साल वित्तीय साक्षरता को छठी से दसवीं कक्षा के सिलेबस में शामिल किया जाएगा। इसकी तैयारी की जा रही है। आरबीआइ से इस पर चर्चा हुई है। पंख पत्रिका में भी वित्तीय साक्षरता के कंटेंट को शामिल किया जाएगा। -उमाशंकर सिंह, निदेशक, झारखंड राज्य शिक्षा परियोजना परिषद।

लोकसभा चुनाव और क्रिकेट से संबंधित अपडेट पाने के लिए डाउनलोड करें जागरण एप

Posted By: Sujeet Kumar Suman

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप