रांची, दिलीप कुमार। Minor Girls Murder पिपरवार अब देश को एक बेहतर खिलाड़ी नहीं दे पाएगा। यहां के मैदान में दौड़कर स्कूल में खो-खो प्रतियोगिता में गोल्ड मेडल जीतने वाला वह भविष्य अब भूतकाल बनकर रह जाएगा। आसमान की बुलंदी छूने से पहले ही एक परी मार डाली गई। खो-खो की गोल्ड मेडलिस्ट खिलाड़ी थी। खेल का मैदान जीतने वाली हैवानियत की वजह से जिंदगी की जंग हार गई।

दस साल की जिस बच्ची की दुष्कर्म में असफल होने पर पड़ोस के भैया सोनू मोची उर्फ कार्लूस ने पत्थर से सिर कुचलकर हत्या कर दी, वह बच्ची अब कभी नहीं दिखेगी। मुहल्ले के लोगों को रूलाएगी तो सिर्फ उसकी यादें। उसका साइकिल दौड़ाना, पास के बाबा मैदान में अपने हम उम्रों के साथ दौड़ में बाजी लगाना हर किसी को याद है और यह याद बनकर ही रह जाएगा।

पिपरवार में जिन दो बच्चियों की हत्या हुई है उनमें से एक बच्ची पास के स्कूल में चौथी कक्षा में पढ़ती थी। पढ़ाई के साथ-साथ खेल में भी अव्वल थी। वह खो-खो में स्कूल में गोल्ड मेडल लाई थी। उसे खेल में रूचि थी, इसलिए वह पास के मैदान में अक्सर दौडऩे जाती थी। यह वही मैदान है, जहां के नाम पर बच्ची अपनी साइकिल से निकली थी और लापता हो गई थी। परिजन को जब जख्मी हालत में बच्चा मिला तो पता चला कि पड़ोस के सोनू कुमार राम उर्फ सोनू मोची उर्फ कार्लुस ने ही पूरी घटना को अंजाम दिया। सोनू आपराधिक प्रवृति का है। वह चोरी आदि के मामले में पहले भी आरोपित रहा है।

 

Posted By: Alok Shahi

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस