डंडई (गढ़वा), जासं। Garhwa Samachar, Jharkhand Crime News गढ़वा जिले के डंडई थाना क्षेत्र के बौलिया गांव के घटहुवा पहाड़ी में सोमवार की देर शाम ग्रामीणों ने तीन टीपीसी उग्रवादी को धर दबोचा। इसके बाद ग्रामीणों ने अपनी एकजुटता का परिचय देते हुए उन्‍हें डंडई थाना पुलिस को सौंप दिया। बताया जाता है कि टीपीसी उग्रवादी के सदस्य ईंट भट्ठा के मालिकों से लेवी की राशि लेने उक्त पहाड़ी में पहुंचे थे। राशि लेकर आने के दौरान उग्रवादी स्थानीय ग्रामीणों के हाथों धरा गए।

इस दौरान ग्रामीणों ने उग्रवादियों को अपने कब्जे में लेकर उनकी धुनाई भी की। टीपीसी उग्रवादियों के पास से रिवाल्वर के अलावा दो गोली व चार मोबाइल बरामद हुआ है। उसे पुलिस को सौंप दिया गया है। लेकिन अभी तक उग्रवादियों का हथियार पुलिस के हाथ नहीं लग सका है। पकड़े गए टीपीसी उग्रवादियों से पुलिस की पूछताछ के दौरान कई घटनाओं का सुराग लगा है। थाना प्रभारी सुनील कुमार पटेल मंगलवार की अहले सुबह पकड़े गए नक्सलियों को लेकर घटहुवा पहाड़ी पहुंचे और हथियार की खोजबीन की।

लेकिन वहां उन्हें कुछ हाथ नहीं लगा। उसके बाद थाना प्रभारी ने तीनों नक्सलियों को मंगलवार की शाम न्यायिक हिरासत में गढ़वा भेज दिया। जानकारी के अनुसार मेराल थाना क्षेत्र के बिछिया दामर व गेरुआ गांव के कई ईंट भट्ठा मालिकों से नक्सलियों द्वारा पिछले छह माह से मोबाइल पर धमकी देकर लेवी की मांग की जा रही थी। सोमवार को उसी टेलिफोनिक बात के आधार पर गांव के पांच ईंट भट्ठा मालिक दो बाइक पर सवार होकर मांगे गए लेवी के 40 हजार रुपये लेकर निर्धारित स्थान पर जा रहे थे।

इस दौरान राशि लेकर जा रहे लोगों के उक्त स्थल पर पहुंचने से पहले ही नक्सली ग्रामीणों के हत्‍थे चढ़ गए। पकड़े गए टीपीसी नक्सलियों में शंकर चौधरी एवं रणजीत कुमार दोनों डंडई थाना क्षेत्र के करके एवं रामाधीन राम गढ़वा थाना के जोबरईया का रहने वाला है। जानकारी के अनुसार डंडई थाना क्षेत्र में पिछले 6 महीनों से टीपीसी उग्रवादियों के आतंक से लोग दहशत में हैं। टीपीसी उग्रवादी सदस्यों के द्वारा लगातार जनप्रतिनिधि, मनरेगा कर्मियों एवं ईट भट्ठा मालिकों को फोन पर धमकी देकर लेवी की राशि की मांग की जा रही थी।

नक्सलियों के आतंक से सभी लोग सहमे हुए हैं। इनके भय से कई मनरेगाकर्मियों ने प्रखंड कार्यालय आना छोड़ दिया है। जनप्रतिनिधि दबी जुबान से इस बात को कहीं भी सार्वजनिक करने से परहेज कर रहे थे। घटनास्थल पर पहुंचे ग्रामीणों का कहना था कि जिस बात को हम सभी सिर्फ सुन रहे थे, वह पिछले छह महीनों से क्षेत्रों में ही देखने को मिलने लगा है। ग्रामीणोंं ने बताया कि थाना क्षेत्र में पिछले कई महीनों से हत्या, दुष्‍कर्म जैसी कई घटनाएं लगातार हो रही है। एक माह में तीन हत्या की घटनाएं हुई हैं। लेकिन अभी तक उसका कोई सुराग पुलिस के हाथों नहीं लग सका है। उक्त सभी घटनाओं से हम लोग काफी सहमे हुए थे। लेकिन क्षेत्रों में अब नक्सली संगठन भी सक्रिय होते जा रहे हैं।

'थाना क्षेत्र में उग्रवादी गतिविधि की पहली घटना सामने आई है। उनके खिलाफ क्षेत्र में व्यापक अभियान चलाकर कार्रवाई की जाएगी। क्षेत्र में किसी भी कीमत पर उग्रवादी गतिविधि को पनपने नहीं दिया जाएगा। ग्रामीणों के द्वारा सौंपे गए सभी उग्रवादियों को जेल भेज दिया गया है।' -सुनील कुमार पटेल, थाना प्रभारी, डंडई।