रांची, राज्य ब्यूरो। बतौर मुख्यमंत्री पांच साल तक राज्य की कमान संभालने वाले पूर्व मुख्यमंत्री रघुवर दास ने लॉकडाउन की अवधि में अपनी गतिविधियों को पूरी तरह से अपने जमशेदपुर आवास तक सीमित कर रखा है। वक्त परिवार संग ही बीत रहा है, लेकिन वे अपनी सामाजिक जिम्मेदारियों को लेकर भी सजग हैं। आम लोगों और पार्टी कार्यकर्ताओं से शारीरिक दूरी उन्होंने भले बना रखी हो लेकिन फोन के माध्यम से वे सभी से जुड़े हैं और कार्यकर्ताओं को आवश्यक दिशा निर्देश भी दे रहे हैं। सोशल मीडिया के माध्यम से भी वे सभी से जुड़े हैं। लॉकडाउन के दौरान उनका ज्यादातर वक्त पढऩे और लिखने में बीत रहा है।

रघुवर दास ने अपनी दिनचर्या को इन दिनों कई भागों में बांट दिया है। वे सुबह सात बजे उठते हैं। आठ से नौ बजे तक योग करते हैं और इसके बाद तीन घंटे के लिए अपने कमरे में चले जाते हैं। यहां उनका अधिकांश वक्त पढऩे और लिखने में बीतता है। इस दौरान अपने करीबियों और पार्टी कार्यकर्ताओं से मोबाइल पर हालचाल लेते हैं। जरूरतमंदों को फोन के माध्यम से ही मदद भी मुहैया कराते हैं और शेष वक्त परिवार को देते हैं।

घर में पत्नी, बेटा और बहू के अलावा इन दिनों बेटी, दमाद और नाती भी हैं। वे ज्यादातर वक्त नाती के साथ ही बिता रहे हैं। परिवार संग शाम को लूडो खेलने के साथ-साथ कैरम पर भी हाथ आजमाते हैं। लॉकडाउन के बाद पूर्व मुख्यमंत्री ने अपने प्रयास से जमशेदपुर में कुष्ठ कॉलोनी में जनसुविधा केंद्र खुलवाया है। महानंद बस्ती, बीर बिरसागढ़, महुआ बस्ती आदि में प्रशासन के सहयोग से उन्होंने खिचड़ी बंटवाना भी शुरू किया है।

Posted By: Sujeet Kumar Suman

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस