रांची, जासं। रिटायर्ड आइपीएस अधिकारी की बहन द्वारा बच्ची को जबरन खींच कर ले जाए जाने का मामले में लोअर बाजार थाने में ह्यूमन ट्रैफिकिंग और बाल मजदूरी का मामला दर्ज किया गया है। इसमें बच्ची को खींचकर ले जाने और प्रताडि़त करने वाली पूर्व आइपीएस की बहन सुजाता और बच्ची को काम पर लगाने वाले बिहार के रोहतास निवासी मान सिंह को आरोपित बनाया गया है। बच्ची के बयान के आधार पर सीडब्ल्यूसी के निर्देश पर केस दर्ज किया गया है।

बता दें कि बच्ची को बिहार के रोहतास से रांची लाकर बाल मजदूरी करवाई जा रही थी। बाल कल्याण समिति रांची (सीडब्ल्यूसी) को बच्ची ने बयान में कहा था कि वह बिहार के रोहतास जिले के सीनियर ट्रेजरी ऑफिसर महंत स्वरूप के घर में काम करती थी। उनकी पत्नी द्वारा जबरन काम करवाया जाता था। काम नहीं करने पर प्रताडि़त किया जाता था। अक्सर उसके साथ मारपीट होती थी। परेशान होकर वह गुरुवार की शाम भागकर खादगढ़ा बस स्टैंड पहुंची थी। वहां भी पीछे उसे लेने के लिए ऑफिसर की पत्नी (रिटायर्ड आइपीएस की बहन) जबरन ले जा रही थी। बस एजेंटों द्वारा रोकने पर हंगामा हो गया था। इसके बाद पुलिस और सीडब्ल्यूसी के माध्यम से उसे शेल्टर होम भेजा गया था।

मानसिंह ने ही बच्ची को रखवाया था काम पर

बच्ची ने अपने बयान में कहा था कि उसके पिता से बातचीत के बाद गांव का ही रहने वाला मानसिंह नाम के व्यक्ति ने रोहतास के ट्रेजरी ऑफिसर से संपर्क कराया था। उनके माध्यम से ही काम के लिए रांची लाया गया है। रांची आकर वह प्रताडि़त हो रही थी।

शॉर्ट मे जानें सभी बड़ी खबरें और पायें ई-पेपर,ऑडियो न्यूज़,और अन्य सर्विस, डाउनलोड जागरण ऐप

budget2021