हजारीबाग, जासं। बिजली चोरी पर लगाम कसने के लिए विभाग लगातार अभियान चला रहा है। हजारीबाग में चोरी रोकने के लिए 5 टीमों का गठन किया गया है। इन टीमों ने 2 महीने के दौरान अलग-अलग स्थानों पर छापेमारी कर बिजली चोरी के आरोप में 150 लोगों पर मामला दर्ज करवाया है। सोमवार को भी हजारीबाग के बरही क्षेत्र में विभाग ने छापेमारी की। इस दौरान 9 लोगों पर मामला दर्ज किया गया है।

कनीय अभियंता सौरव लिंडा ने बताया कि मलकोको के दीपक चौधरी, बासुदेव रविदास, इतवारी रविदास, संतोष रविदास, अशोक रविदास, जीवनलाल रविदास, बालकी रविदास, प्रकाश रविदास और नागेश्वर रविदास को नामजद अभियुक्त बनाया गया है। वहीं पूरे जिले की बात करें, तो इन 2 महीने के दौरान बिजली चोरी के आरोप में करीब पांच लाखों रुपये जुर्माना भी वसूला गया है।

हालांकि इस दौरान कई बार विभाग को मुसीबत का भी सामना करना पड़ा है। टाटीझरिया में छापेमारी के दौरान ग्रामीण कनीय अभियंता से ही भिड़ गए थे। ग्रामीणों की पिटाई में अभियंता घायल हो गए थे। इसके बाद उन्हें अस्पताल में भर्ती तक कराना पड़ा था। पुलिस ने तब कार्रवाई करते हुए 8 लोगों को जेल भेजा था।

कटकमदाग व बड़कागांव के सीओ हटाए गए, राजस्व विभाग भेजी गई सेवा

भूमि सुधार एवं राजस्व विभाग हजारीबाग जिले के कटकमदाग व बड़कागांव अंचल के सीओ को हटा दिया गया है। इन दोनों अधिकारियों की सेवा वापस विभाग को लौटा दी गई है। सोमवार की रात विभाग ने इस संबंध में अधिसूचना जारी कर दी। सबसे बड़ी बात यह है कि कटकमदाग सीओ वीरेंद्र कुमार एक माह बाद ही सेवानिवृत्त होने वाले थे। बताया जा रहा है कि लगातार शिकायतों के बाद विभाग ने इन्हें हटाने का निर्णय लिया। वहीं बड़कागांव के सीओ प्रशांत भूषण सिंह को भी हटा कर वापस उनकी सेवा को कार्मिक प्रशासनिक सुधार एवं राजभाषा विभाग को लौटा दी गई है।

Edited By: Sujeet Kumar Suman

जागरण फॉलो करें और रहे हर खबर से अपडेट