गढ़वा, जासं। गढ़वा के राजकीय प्राथमिक विद्यालय महुआटिकर बडग़ड़ में गणतंत्र दिवस के दिन हुए बम विस्फोट के मामले का पुलिस ने खुलासा कर लिया है। विद्यालय की एक शिक्षिका (भंडरिया थाना क्षेत्र निवासी) के पूर्व पति लुईस जुसफिन तिर्की ने उसकी हत्या की नियत से विद्यालय में बम लगाया था। गणतंत्र दिवस पर स्कूल में बम विस्फोट कराने का मकसद घटना को नक्सली स्वरूप देना था। मालूम हो कि बम झंडा गाडऩे के लिए खोदे गए गड्ढे में लगाया गया था।

लुईस को उम्मीद थी कि झंडारोहण के समय शिक्षिका भी आसपास रहेगी और विस्फोट में उसकी मौत हो जाएगी लेकिन प्रधानाध्यापक की सावधानी के कारण विस्फोट में किसी को नुकसान नहीं हुआ था। इस साजिश के लिए शिक्षिका के पूर्व पति लुईस जुसफिन तिर्की, मदगड़ी निवासी अनुप कुमार तथा महुआडांड़ निवासी वीरेंद्र खरवार को पुलिस ने गिरफ्तार कर जेल भेज दिया है।

यह जानकारी पुलिस अधीक्षक अश्विनी कुमार सिन्हा ने रविवार को दी। उन्होंने बताया कि हत्या की साजिश रचने के आरोपित लुईस की शादी शिक्षिका से तीन वर्ष पूर्व हुई थी। मगर उनकी शादी चली नहीं। शिक्षिका ने उसे छोड़कर किसी अन्य व्यक्ति से शादी कर ली। इससे लुईस परेशान रहने लगा। शादी टूटने के बाद जब शिक्षिका विद्यालय जाती तो लुईस उससे मुलाकात करने की कोशिश करता था मगर वह उसे ताना मारती।

प्रतिशोध में लुईस ने उसकी हत्या की सुपारी अनुप कुमार को 50 हजार रुपये में दी, मगर वह इसमें कामयाब नहीं हुआ। इसके बाद अनुप ने लुईस की मुलाकात महुआडांड के वीरेंद्र खरवार से कराई। उसने उसे दस हजार रुपये में हैंडग्रेनेट उपलब्ध कराया। इसे लुईस ने 25 जनवरी को ही झंडोत्तोलन स्थल के समीप रख दिया। मामले की पड़ताल के लिए एसपी ने टीम गठन किया था।

Posted By: Sujeet Kumar Suman

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस