रांची, जासं। लॉ छात्रा से बीते 26 नवंबर की शाम कांके रिंग रोड स्थित संग्रामपुर बस स्टैंड से अगवा कर सामूहिक दुष्कर्म मामले में पुलिस अब चार्जशीट सौंपने की तैयारी में है। पुलिस को फॉरेंसिक साइंस लैबोरेटरी (एफएसएल) की रिपोर्ट मिली है। इस रिपोर्ट में चार के सिमेन होने के सुबूत मिले हैं। बाकी आठ आरोपितों ने अप्रत्यक्ष तौर पर सहयोग किया था। इस रिपोर्ट के आधार पर केस के अनुसंधानकर्ता डीएसपी मुख्यालय वन के डीएसपी नीरज कुमार अब कोर्ट को चार्जशीट सौंपने की तैयारी में है। अब आगे स्पीडी ट्रायल कर दुष्कर्म के इन आरोपितों को सजा दिलाई जाएगी। संभव है कि 16 दिसंबर को अदालत में चार्जशीट सौंपी जाए।

पुलिस और एफएसएल सूत्र बताते हैं कि वेजाइनल स्वाब और जब्त किए गए अंडर गारमेंट की फॉरेंसिक जांच में चार पुरुषों के वाई क्रोमोजोन (सिमेन) के कण मिले हैं। बता दें कि पुलिस ने सारे सुबूत जमा करते हुए सारे अनुसंधान पूरे कर लिए हैं। सभी गवाहों के बयान भी दर्ज किए जा चुके हैं। एक दिसंबर को ही पुलिस ने पीड़िता द्वारा टेस्ट आइडेंटिफिकेशन परेड (टीआइपी) व 164 का बयान करा दिया था।

इनके खिलाफ चार्जशीट

कांके थाना क्षेत्र के संग्रामपुर गांव निवासी सुनील मुंडा, कुलदीप उरांव, सुनील उरांव, संदीप तिर्की, अजय मुंडा, राजन उरांव, नवीन उरांव, अमन उरांव, बसंत कच्छप, रवि उरांव, रोहित उरांव और ऋषि उरांव शामिल है। इनमें सुनील मुंडा के पास से ही हथियार और छात्रा का मोबाइल बरामद किया गया था। इस वजह से वह अलग से दर्ज किए गए आम्स्र एक्ट के मामले का आरोपित है।

Posted By: Alok Shahi

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस