रांची, राज्य ब्यूरो। झारखंड बिजली वितरण निगम में कार्यरत बिलिंग एजेंसियों को प्रबंधन के आदेश की परवाह नहीं है। वे नाफरमानी पर उतारू हैं। गौरतलब है कि पूर्व में बिलिंग एजेंसियों के संबंध में कर्मियों से शिकायतें मिली थी कि वे काम देने के एवज में हरेक कर्मी से पैसे वसूल रहे हैं। यह वसूली उपकरण की जमानत के तौर पर ली जा रही है। इसके बाद बिजली वितरण निगम प्रबंधन ने इस बाबत सख्त आदेश जारी कर बिलिंग एजेंसियों को चेतावनी दी कि वे कर्मियों से पैसे नहीं वसूल सकते।

ऐसी एजेंसियों के खिलाफ कार्रवाई की जाएगी। इसकी अनदेखी करते हुए रांची विद्युत एरिया बोर्ड में कार्यरत बिलिंग एजेंसी द्वारा कर्मियों से पैसे लेने की शिकायत थाने तक पहुंच चुकी है। मांडर थाने में इस संबंध में एक शिकायत दर्ज कराकर आरोप लगाया गया है कि एजेंसी ने कर्मियों से पैसे वसूले और मांगे जाने पर वापस लौटाने से इन्कार कर रहे हैं। हरेक कर्मी से 15 हजार रुपये की वसूली उपकरण देने के बदले जमानत के तौर पर की गई। आश्चर्य की बात यह है कि वसूले गए पैसे की कोई रिसिविंग नहीं दी गई है।

शिकायत करने वाले कर्मी को काम से हटा दिया गया है। रांची विद्युत एरिया बोर्ड के तहत रांची, गुमला, खूंटी और लोहरदगा जिले आते हैं। यहां बिलिंग एजेंसियों के जरिए की जाती है। इनके कर्मी मीटर रीडिंग का काम करते हैं। बोर्ड के अधिकारियों के मुताबिक कर्मी से पैसे वसूलने की शिकायत की जांच कराई जाएगी। शिकायत सही पाए जाने के बाद नियमानुसार कार्रवाई होगी। पूर्व में इससे संबंधित आदेश जारी किए जाने के बावजूद ऐसा करना गलत है।

Edited By: Sujeet Kumar Suman