रांची, राज्य ब्यूरो। झारखंड राज्य अनुसूचित जाति सहकारिता विकास निगम लिमिटेड के निदेशक मंडल के सदस्यों का चुनाव 17 नवंबर को होगा। निगम के प्रशासक सह प्रबंध निदेशक अजय नाथ झा ने सोमवार को सदस्यों के चुनाव (विशेष आम सभा चुनाव) की तैयारियों की समीक्षा की। इस क्रम में उन्होंने चुनाव में पारदर्शिता सुनिश्चित करने को लेकर कई निर्देश दिए।

बैठक में चुनाव कार्य में शामिल होने वाले कर्मियों एवं पदाधिकारियों को पहचान पत्र निर्गत किए जाने तथा चुनाव कार्य में सुरक्षा के लिए रांची के उपायुक्त एवं वरीय पुलिस अधीक्षक का सहयोग लेने का निर्णय लिया गया। बैठक में प्रशासक ने निगम के चुनाव कार्य की पारदर्शिता हेतु सभी कार्यक्रमों की फोटोग्राफी एवं वीडियोग्राफी कराने के निर्देश दिए। बता दें कि चुनाव संचालन पदाधिकारी मंजू विभावरी द्वारा 13 सितंबर को जारी आदेश के तहत चुनाव की घोषणा के साथ ही निगम में आचार संहिता लागू कर दी गई है।

चुनाव के लिए सहकारिता प्रशिक्षण केंद्र के प्राचार्य लुईस टोप्पो को निर्वाचन पदाधिकारी तथा व्याख्याता श्वेता गुड़िया को अनुकाल्पनिक पदाधिकारी नियुक्त किया गया है। विशेष आम सभा कार्यक्रम को लेकर जारी घोषणा के तहत निगम के इच्छुक सदस्यों को निदेशक पद के लिए नामांकन की तिथि 20 अक्टूबर निर्धारित की गई है। समीक्षा बैठक में निर्वाचन पदाधिकारी लुईस टोप्पो, निगम के सचिव आलोक रंजन तथा अन्य पदाधिकारी उपस्थित थे।

जागरूकता से ही रुकेगा साइबर अपराध, बैठक में बनी सहमति

सीआइडी मुख्यालय में सोमवार को साइबर अपराध पर विभिन्न क्षेत्रों के प्रमुख लोगों के साथ पुलिस अधिकारियों ने बैठक की। इनमें उद्योग, चैंबर ऑफ कामर्स, स्कूल, विश्वविद्यालय आदि के प्रतिनिधि शामिल हुए। बैठक में इस बात पर सर्वाधिक जोर दिया गया कि जागरूकता से ही साइबर अपराध को रोका जा सकता है। इसके लिए व्यापक स्तर पर जागरूकता अभियान चलाया जाना चाहिए।

सीआइडी के अधीन संचालित साइबर क्राइम थाना के माध्यम से साइबर अपराध के प्रति जागरूकता सप्ताह संचालित किया जाना है। इसकी तिथि शीघ्र ही तय होगी। उसकी रूपरेखा तैयार कर ली गई है। साइबर जागरूकता सप्ताह रांची में चलेगा। इससे बड़े समुदाय को जोड़ा जा रहा है। इस सप्ताह के दौरान बताया जाएगा कि ऑनलाइन मार्केटिंग, डिजिटल लेनदेन, सोशल मीडिया पर सक्रियता के दौरान क्या-क्‍या सावधानी बरतने की जरूरत है।

ज्यादातर साइबर अपराध के लिए यही प्लेटफार्म होते हैं, जहां थोड़ी सी सावधानी बरतें तो मान-सम्मान के साथ-साथ गाढ़ी कमाई भी लुटने से बच जाएगी। बैठक में पुलिस की ओर से साइबर क्राइम के एसपी कार्तिक एस, डीएसपी नेहा आदि उपस्थित थे।

Edited By: Sujeet Kumar Suman