रांची, राज्य ब्यूरो। निलंबित आइएएस अधिकारी पूजा सिंघल के खिलाफ मनी लांड्रिंग मामले की जांच कर रहे ईडी (प्रवर्तन निदेशालय) के हाथ अब नेताओं व नौकरशाहों के करीब रहने तथा काला धन खपाने में माहिर खिलाड़ियों तक पहुंचने लगे हैं। बुधवार को ईडी ने राज्य के प्रभावी नेताओं और नौकरशाहों के करीबी रहे प्रेम प्रकाश के आधा दर्जन ठिकानों पर एक साथ छापेमारी की। देर रात ईडी ने प्रेम प्रकाश को हिरासत में भी ले लिया, जिसकी निशानदेही पर छापेमारी जारी रही।

बनारस, रांची, पटना, सासाराम में भी छापेमारी जारी

ईडी ने प्रेम प्रकाश के रांची में तीन, बिहार के पटना व सासाराम व उत्तर प्रदेश के बनारस में छापेमारी की है। रांची में अरगोड़ा चौक स्थित वसुंधरा अपार्टमेंट के फ्लैट नंबर 802, अशोक नगर में फिरायालाल नेक्सट के समीप स्थित कार्यालय व हरमू हाउसिंग कालोनी स्थित आवास में ईडी की छापेमारी देर रात तक जारी रही। अरगोड़ा चौक के समीप स्थित वसुंधरा अपार्टमेंट के फ्लैट नंबर 802 में ताला लगा हुआ था, जिसे दंडाधिकारी की मौजूदगी में ईडी के अधिकारियों ने ताला तोड़कर तलाशी ली है। यहां से भारी मात्रा में लेन-देन से संबंधित दस्तावेज हाथ लगे हैं।

खनन पदाधिकारियों से पूछताछ के बाद हुई छापेमारी

इससे पहले सोमवार को ईडी ने बिल्डर निशिथ केशरी और कारोबारी विशाल चौधरी के ठिकानों पर छापेमारी की थी। प्रेम प्रकाश काली कमाई खपाने वालों के बीच चर्चित नाम है। ईडी को जानकारी मिली है कि कुछ जिला खनन पदाधिकारियों के माध्यम से वह काले धन की हेराफेरी करता था। जिला खनन पदाधिकारियों से पूछताछ में मिले इनपुट के बाद ईडी ने प्रेम प्रकाश के ठिकाने पर दस्तक दी। प्रेम प्रकाश रांची के अरगोड़ा बाईपास रोड में स्थित वसुंधरा अपार्टमेंट के फ्लैट नंबर 802 में रहता है, जहां पिछले एक महीने से ताला लटका था।

पड़ोसियों ने बताया- शैलोदय बिल्डिंग अमूमन खाली रहता

उसने हरमू हाउसिंग कालोनी में जल बोर्ड कार्यालय के बगल में आइएएस अधिकारी अमित कुमार व के श्रीनिवासन के आवास के पास शैलोदय बिल्डिंग में भी एक फ्लैट किराये पर ले रखा था, जहां ईडी की टीम पहुंची तो प्रेम प्रकाश के कुछ सहयोगी मौजूद मिले। शैलोदय बिल्डिंग में 3के/7 नंबर का यह फ्लैट यूके झा व शैल देवी का है। आसपास के लोगों का कहना है कि शैलोदय बिल्डिंग अमूमन खाली रहता है। केवल प्रेम प्रकाश के फ्लैट में ही लोगों का आना-जाना था। बुधवार अपराह्न करीब तीन बजे सीआरपीएफ के जवानों के साथ ईडी की टीम यहां पहुंची थी। यहां देर रात तक टीम के अधिकारी फ्लैट की गहन तलाशी ले रहे थे। तलाशी में क्या कुछ मिला, यह स्पष्ट नहीं हो पाया है। केवल इतनी जानकारी मिली है कि भारी लेन-देन व कुछ राजनेताओं व नौकरशाहों के साथ घनिष्ठ संबंध से संबंधित दस्तावेज ईडी के हाथ लगे हैं

पिछले 20 दिनों की लगातार छानबीन में आया है प्रेम प्रकाश का नाम

ईडी की टीम पिछले 20 दिनों से लगातार मनी लांड्रिंग मामले में छानबीन कर रही है। छह मई को आइएएस पूजा सिंघल व उनके सहयोगियों के 20 ठिकानों पर छापेमारी की गई थी, जिसमें उनके चार्टर्ड अकाउंटेंट सुमन कुमार के घर से 19.31 करोड़ रुपये नकद बरामद हुए थे। इस मामले में सात मई को चार्टर्ड अकाउंटेंट सुमन कुमार को गिरफ्तारी कर लिया गया था। बाद में 11 मई को आइएएस अधिकारी पूजा सिंघल भी गिरफ्तार कर ली गईं। ईडी ने पूजा सिंघल और सीए सुमन कुमार को रिमांड पर लेकर 14 दिनों तक पूछताछ की। इस दौरान झामुमो के निलंबित कोषाध्यक्ष रवि केजरीवाल और पाकुड़, दुमका, साहिबगंज व रांची के जिला खनन पदाधिकारियों से पूछताछ के बाद मंगलवार 24 मई को राज्य के वरिष्ठ आइएएस अधिकारी राजीव अरुण एक्का के बहनोई निशिथ केशरी, कारोबारी विशाल चौधरी व इनसे जुड़े लोगों के बिहार-झारखंड के आधा दर्जन ठिकानों पर छापेमारी की गई, जहां से करोड़ों रुपये के लेन-देन के कागजात मिले, जिनकी छानबीन की जा रही है। इसी क्रम में ईडी को प्रेम प्रकाश के बारे में भी जानकारी मिली थी।

कौन है प्रेम प्रकाश

प्रेम प्रकाश राज्य के नेताओं-नौकरशाहों का बेहद करीबी माना जाता है। झारखंड में चाहे जिस दल की सरकार हो, उसका प्रभाव हमेशा रहा है। कुछ दिन पहले ही गोड्डा से सांसद निशिकांत दुबे ने भी ट्वीट कर बिना स्पष्ट नाम लिए प्रेम प्रकाश की ओर इशारा किया था। उन्होंने लिखा था- प्रेम भइया लंदन भागने की फिराक में और चौबे भइया दिल्ली मैनेज करने में जुटे हैं।

Edited By: M Ekhlaque