रांची, राज्य ब्यूरो। बांग्लादेश से कोलकाता के रास्ते रायपुर तक अवैध तरीके से विदेशी सोना व अन्य धातु की तस्करी के मामले में ईडी ने तीन दिनों तक झारखंड के एक व छत्तीसगढ़ के 21 ठिकानों पर एक साथ छापेमारी की। इस छापेमारी में ईडी ने 1.41 करोड़ रुपये नकदी के अलावा 16.655 किलोग्राम सोने के जेवरात व बिस्कुट तथा 671.77 किलोग्राम चांदी की बरामदगी की है।

ऐसे ईडी को पता चला इस धंधे के बारे में

ईडी ने संबंधित ठिकानों से सोने-चांदी की खरीद-बिक्री से संबंधित दस्तावेज व अन्य डिजिटल उपकरण भी जब्त किया है। इस पूरे प्रकरण में मनी लांड्रिंग अधिनियम के तहत ईडी का अनुसंधान जारी है। ईडी को छानबीन में पता चला है कि विदेशी सोना म्यांमार से बांग्लादेश पहुंचता था, जहां से कोलकाता और कोलकाता से सड़क मार्ग से विभिन्न राज्यों से होकर छत्तीसगढ़ पहुंचता था। राजस्व खुफिया निदेशालय (डीआरआइ) की शिकायत पर ईडी ने अवैध तरीके से सोना व अन्य कीमती पत्थरों की तस्करी मामले में मनी लांड्रिंग के तहत अनुसंधान शुरू किया था। तब अवैध तरीके से विदेशी सोना के साथ एक व्यक्ति पकड़ा गया था। उस व्यक्ति ने पूछताछ में बताया था कि उसने बांग्लादेश से भारत में तस्करी के माध्यम से सोना पहुंचाया है और उसे अवैध तरीके से कोलकाता से रायपुर में विजय कुमार बैद उर्फ विक्की व अन्य को पहुंचाना था।

बड़ा गिरोह म्यांमार से मंगाता था सोना

इस मामले में कई अलग-अलग केस भी दर्ज किए गए थे। अनुसंधान के दौरान ईडी को जानकारी मिली कि छत्तीसगढ़ व आसपास के राज्यों में बड़े पैमाने पर तस्करी करने वाला गिरोह सक्रिय है। इस गिरोह के तस्करी रूट पर भी ईडी ने अनुसंधान किया तो पता चला कि पूरा गिरोह विदेशी सोना को म्यांमार में लेता है। म्यांमार से यह बांग्लादेश पहुंचता है। वहां से बंगाल में तस्करी होता है। यहां से सड़क व रेल मार्ग से तस्करी का सोना व कीमती पत्थर छत्तीसगढ़ पहुंचता है।

Edited By: M Ekhlaque