रांची, राज्य ब्यूरो। Durga Puja 2022 झारखंड हाई कोर्ट के जस्टिस अपरेश कुमार सिंह व जस्टिस दीपक रौशन की खंडपीठ में रांची के नार्थ आफिसपाड़ा में दुर्गापूजा के दौरान पंडाल लगाए जाने के विरोध के बाद दाखिल जनहित याचिका पर सुनवाई हुई। सुनवाई के बाद अदालत ने कहा कि पूजा पर कोई रोक नहीं रहेगी। प्रशासन पूजा के दौरान वहां की सुरक्षा सुनिश्चित करे। इसको लेकर नार्थपाड़ा के रहने वाले लोगों ने हाई कोर्ट में जनहित याचिका दाखिल की थी।

सीमा शर्मा ने पूजा पंडाल का किया विरोध

सुनवाई के दौरान वरीय अधिवक्ता अजीत कुमार, प्रभात सिंह और नवीन सिंह ने अदालत को बताया कि स्टेट बार काउंसिल की जमीन के पास ही करीब 25 सालों से स्थानीय लोग पंडाल बनाकर दुर्गापूजा करते हैं। लेकिन इस बार भाजपा नेत्री सीमा शर्मा पूजा पंडाल व मूर्ति स्थापित करने का विरोध कर रही हैं। उनका कहना है कि पंडाल नहीं बनाया जाए, क्योंकि पास के मंदिर में कलश स्थापना कर पूजा किया जा रहा है।

25 साल से पंडाल बनाकर पूजा कर रहे लोग

अधिवक्ता नवीन सिंह ने बताया कि करीब चालीस सालों से वे उस मोहल्ले में रहते हैं। स्थानीय लोग यहां पर करीब 25 साल से पंडाल बनाकर मां दुर्गा की मूर्ति की स्थापना करते रहे हैं। इस बार ऐसा नहीं होने दिया जा रहा है, यह उचित नहीं है। अदालत ने इस मामले में अरगोड़ा सीओ को तलब किया था। उन्होंने बताया कि उक्त जमीन सरकारी है और बहुत पहले से वहां पर पूजा भी होती रही है।

अगर ऐसा हुआ तो पूजा पंडाल ही नहीं बनेंगे

इस दौरान भाजपा नेत्री सीमा शर्मा के अधिवक्ता की ओर से अदालत को बताया गया कि उक्त स्थान पर भव्य मंदिर बनाया गया है। जहां पर कलश स्थापना की गई है और पूजा की जा सकती है। इस पर अदालत ने कहा कि दशहरा में पंडाल बनाकर मंदिर परिसर में मूर्ति स्थापित कर पूजा की जाती है। गर्भगृह में पूजा अलग होती है। अगर ऐसा होने लगे तो रांची में पूजा पंडाल ही नहीं बनेंगे। इसके बाद अदालत ने वहां पर बाल युवा पूजा समिति को पूजा करने का निर्देश दिया है। साथ ही जिला प्रशासन को सुरक्षा मुहैया कराने का निर्देश दिया है।

Edited By: M Ekhlaque

जागरण फॉलो करें और रहे हर खबर से अपडेट