जागरण संवाददाता, रांची : डिपार्टमेंट ऑफ साइंस एंड टेक्नोलॉजी एवं साइंस एंड इंजीनियरिंग रिसर्च बोर्ड द्वारा तीन दिवसीय कार्यशाला का आयोजन आइसीएआर एवं इंडियन एग्रीकल्चर रिसर्च इंस्टीट्यूट नई दिल्ली में किया गया है। 19 से 21 फरवरी तक चलने वाली इस कार्यशाला में शामिल होने के लिए रांची विवि के पीजी जंतु विज्ञान विभाग के डॉ. आनंद कुमार ठाकुर का चयन किया गया है। कार्यशाला में देश-विदेश के 35 शिक्षक व शोधकर्ता चुने गए हैं।

डॉ. आनंद का विषय डीएनए बार कोडिंग फॉर इंसेक्ट डायग्नोसिस है। यह एक नई तकनीक है जिसके द्वारा विश्व भर में कीड़ों की पहचान उसके डीएनए के बार कोडिंग सिस्टम द्वारा की जा रहा है। इससे छात्रों, शिक्षकों एवं रिसर्च स्कॉलर्स को कीड़ों की सही पहचान करने में मदद मिलेगी।

डॉ. ठाकुर के इस कार्यशाला में चयनित होने पर रांची विवि के कुलपति प्रोफेसर रमेश कुमार पाडेय, प्रोवीसी डॉ कामिनी कुमार, विभागाध्यक्ष डॉ. शमीम, रजिस्ट्रार डॉ अमर कुमार चौधरी सहित अन्य शिक्षकों ने बधाई दी है। रोबोटिक परीक्षा में सफल विद्यार्थियों को बांटे गए प्रमाणपत्र

जासं, रांची : पाम इंटरनेशनल स्कूल बरियातू एवं रोबोटिक शिक्षक हेशाम अब्दुल बासित के नेतृत्व में रोबोटिक परीक्षा में सफल 60 छात्र एवं छात्राओं के बीच प्रमाण पत्र वितरण किया गया।

इस अवसर पर रोबोटिक शिक्षक हेशाम अब्दुल बासित ने कहा कि वर्तमान समय आर्टिफिशियल इंटेलिजेंस का है। यह हमारे जीवन को हर क्षेत्र में प्रभावित कर रहा है। इस मशीनी युग में सही तरीके से जीवन गुजारने के लिए हमें इसके साथ सामंजस्य स्थापित करना होगा। इसके लिए सबसे पहले हमें इसके बारे जागरूक होना होगा। इसी जागरूकता को ध्यान में रखते हुए स्कूल के सिलेबस में रोबोटिक एजुकेशन को सम्मिलित किया गया है, ताकि बच्चों को दुनिया में हो रहे परिवर्तन के साथ तालमेल कर भविष्य की तैयारी कराई जा सके।

Posted By: Jagran

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस

जागरण अब टेलीग्राम पर उपलब्ध

Jagran.com को अब टेलीग्राम पर फॉलो करें और देश-दुनिया की घटनाएं real time में जानें।