जागरण संवाददाता, रांची : हर किसी को घर सजाना पसंद होता है। इसके लिए लोग तरह तरह के इंटिरियर व फर्नीचर का इस्तमाल करते है। दीवारों को भी चटक रंगों से सजाया जाता है। आज के दौर में ट्रेंड बदल रहा है। शहर के लोग भी वॉलपेपर लगाने में रुचि ले रहे है। ये दीवारों को एक मॉडर्न लुक देते हैं और देखने में भी काफी आकर्षक होते हैं। इससे आप दीवारों को मनचाहा लुक दे सकते हैं। कई तरह के वालपेपर रांची की दुकानों में उपलब्ध हैं। 3 डी से दीवारों को दें नया लुक : यूं तो इसके कई प्रकार है, लेकिन सबसे ज्यादा इन दिनों लोगों को 3 डी वॉलपेपर पसंद आ रहे हैं। ये आकर्षक होने के साथ साथ दीवारों में एक नई जान डाल देते हैं। इसमें आकृति उभर कर आती है। इसके साथ साथ कस्टमाइज वॉलपेपर का रांची के युवाओं मे क्रेज देखने को मिल सकता है। इसमें लोगों के फोटो को वॉलपेपर के रूप में ढाला जाता है। यह रंग कराने से सस्ता है। इसकी रेंज पांच सौ से लेकर पाच हजार तक है। रंग कराने का अच्छा विकल्प है वॉलपेपर : ज्यादातर लोग अपने घर के दीवारों में रंग कराते है। लेकिन इसका एक अच्छा विकल्प बनता जा रहा है वॉलपेपर। हरमू रोड के व्यापारी रवि रोहतगी ने बताया कि इन दिनों वॉलपेपर चलन में है। इसका मूल्य काफी कम हुआ है। 57 वर्ग फीट का मूल्य 1200 रुपये तक हो जाता है। यानी 4000 रुपयों में कमरा तैयार हो जाता है। यदि ऑनलाइन मंगाते हैं तो 10 से 30 फीसद तक एमआरपी पी छूट भी उपलब्ध होती है। इनके दो प्रकार होते है - वुवन और नन वुवन । वुवन को हटाने के बाद दीवार पर दाग रह जाता है। लेकिन नन वुवन को हटाने पर ऐसा नहीं होता। जिसकी वजह से वॉलपेपर हटाना काफी आसान हो जाता है। सीपेज न होने की स्थिति यह लगभग दस सालों तक आसानी से चलता है। कई वेरायटी में मिलता है : आप अपने पसंद के अनुसार वॉलपेपर चुन सकते है। बाजार मे कई तरह के वालपेपर उपलब्ध हैं। ये मार्बल लूक, वुडन लूक, सिनेहरी आदि में उपलब्ध हैं। बच्चों के लिए कार्टून वाले वॉलपेपर उपलब्ध हैं। यह उन्हें काफी पसंद आता हैं। इसमे उनके मनपसंद कार्टून बने होते हैं। वॉलपेपर दीवारों को एक नया रूप देता है। यह रंग से ज्यादा आकर्षक लगता है। इसे लगाना काफी आसान है। पुट्टी के ठीक बाद इसे लगाया जा सकता है। बिरेंद्र रोहतगी व्यापारी मैंने भी अपने घर में वॉलपेपर लगाया है। इससे दीवारों के साथ साथ घर भी आकर्षक हो गया है। रंग कराने का ये अच्छा विकल्प बन गया है। कमलेश सिंह दिपाटोली