मोदी सरकार - 2.0 के 100 दिन

रांची, जेएनएन। झारखंड के कई जिलों में शुक्रवार को तेज हवा के साथ बारिश हुई और वज्रपात हुआ। बारिश से प्रदेश में मौसम सुहाना हो गया, मगर वज्रपात ने आठ लोगों की जान ले ली। वज्रपात से हजारीबाग में दो पलामू में दो तथा चतरा में पिता व पुत्री दोनों की मौत हो गई। लोहरदगा में एक किशोर घायल हो गया, जिसे सदर अस्‍पताल में भर्ती कराया गया है। रांची के मांडर में भी 12 साल की छात्रा वज्रपात से घायल हो गई।

जानकारी के मुताबिक, चतरा में वज्रपात से पिता और पुत्री की मौत हो गई है। सदर थाना क्षेत्र के रामटुंडा गांव में घटना घटी है। हजारीबाग में वज्रपात से दो लोगों की मौत हो गई। बरही में 18 वर्षीय युवक अभिजीत कुमार सिंह की मौत हुई है। सदर प्रखंड के केसुरा 35 वर्षीय प्रकाश यादव की मौत हो गई। पलामू के छतरपुर में वज्रपात से दो लोगों की मौत हो गई है। 

बेरमो में अनुमंडल व्यवहार न्यायालय तेनुघाट से लौट रहे दो लोगों की वज्रपात से मौके पर ही मौत हो गई। घटना शुक्रवार की दोपहर की है। मृतका का नाम मो जलालुद्दीन और दिलमोहम्मद है। दोनों नावाडीह प्रखंड के सुरही गांव के रहने वाले थे। खेतको के निकट तेनु नहर रोड में उक्त घटना घटी है।

वज्रपात से दो बहनों समेत चार की मौत
मानसून के पहले ही लगातार हो रहे वज्रपात ने लोगों को डरा दिया है। बुधवार को भी वज्रपात में दो बहनों समेत चार लोग अपनी जान गवां बैठे। लोहरदगा जिला के सेन्हा थाना पारही भंगारी गांव निवासी लखन उरांव की पुत्री अनिशा कुमारी (10 वर्ष) और बुद्धराम भगत की पुत्री अंजली कुमारी (9 वर्ष) गांव में ही खेल रही थी। इसी दौरान अचानक हुए वज्रपात की चपेट में दोनों आ गई। वहां से गुजर रहे ग्रामीणों ने दोनों बच्चियों को उठाकर परिजनों की सहायता से तत्काल सदर अस्पताल पहुंचाया। जहां चिकित्सकों ने दोनों को मृत घोषित कर दिया। अंजली और अनिशा दोनों रिश्ते में ममेरी बहनें थीं।

उधर, गढ़वा का बसंत बुधवार को महुआ चुनने गांव के युवकों के साथ गया था। बारिश शुरू होते ही सभी इधर-उधर भागने लगे, बसंत भी भागने के दौरान एक पेड़ के नीचे पहुंचा जहां हुए वज्रपात की चपेट में वह आ गया, आधे घंटे तक घटनास्थल पर ही वह पड़ा रहा जिससे उसकी मौत हो गई। गढ़वा जिले के रमना थाना क्षेत्र के परसवान गांव में दोपहर वज्रपात की घटना में बसंत कुमार(18 वर्ष) की मौत हो गई। वहीं भवनाथपुर के रोहिणिया गांव के 80 वर्षीय गोवर्धन यादव की मौत हो गई। गोवर्धन पेड़ के नीचे बैठे थे, इसी दौरान हुए वज्रपात से उनकी घटनास्थल पर ही मौत हो गई।
 

Posted By: Sachin Mishra

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप