रांची - कोडरमा, जाटी। चक्रवाती तूफान जवाद को लेकर ओडिशा से चलने वाली पुरुषोत्तम, भुवनेश्‍वर राजधानी समेत कई ट्रेनें रद रहेंगी। कई ट्रेनों का मार्ग परिवर्तित किया जा रहा है। कोहरे को लेकर धनबाद-लुधियाना, पटना-रांची जनशताब्दी आज से हर गुरुवार को रद रहेगी।ओडिशा से सटा होने के कारण झारखंड में भी जवाद चक्रवात का असर दिखने लगा है। इसका असर अभी ट्रेनों के परिचालन पर दिख रहा है।

संभावित चक्रवाती तूफान जवाद की आशंका से ये ट्रेनें रद की गई हैं:

ट्रेन संख्या 13351 धनबाद - एलेप्पी एक्सप्रेस यात्रा प्रारम्भ 03.12.2021 को धनबाद से रद रहेगी ।

ट्रेन संख्या 12876 आनंद विहार टर्मिनल - पुरी एक्सप्रेस यात्रा प्रारंभ 03.12.2021 को आनंद विहार टर्मिनल से रद रहेगी ।

ट्रेन संख्या 18451 हटिया - पुरी एक्सप्रेस यात्रा प्रारंभ 03.12.2021 को हटिया से रद रहेगी ।

ट्रेन संख्या 18452 पुरी - हटिया एक्सप्रेस यात्रा प्रारंभ 03.12.2021 को पुरी से रद रहेगी ।

ट्रेन संख्या 18637 हटिया - बेंगलुरु कैंट एक्सप्रेस यात्रा प्रारंभ 04.12.2021 को हटिया से रद रहेगी ।

दक्षिण अंडमान सागर में बना कम दबाव का क्षेत्र अधिक सक्रिय होकर केंद्रीय बंगोपसागर में चक्रवात जवाद का रूप लेकर उत्तर आंध्र प्रदेश ए​वं ओडिशा तट से टकराने की संभावना अधिक होने से ओडिशा में सरकारी स्तर पर इससे निपटने की तैयारी शुरू हो गई है। केंद्र सरकार की राष्ट्रीय क्राइसिस मैनेजमेंट कमेटी ने संभावित चक्रवात की समीक्षा करने के साथ ही राहत एवं बचाव कार्य के लिए भारतीय नौसेना, थल सेना को एलर्ट पर रहने का निर्देश दिया है। इसके साथ ही 32 एनडीआरएफ टीम को तैनात किया गया है। अतिरिक्त एनडीआरएफ टीम को भी सतर्क रहने को कहा गया है। ओडिशा सरकार की तरफ से चक्रवात से निपटने के लिए समीक्षा बैठक कर 13 जिले के जिलाधीशों को सतर्क रहने तथा 8 सूत्रीय चेक लिस्ट एवं बाढ़ के लिए जारी एसओपी के आधार पर कदम उठाने को निर्देश दिया गया है।

चक्रवात से ओडिशा के तटीय जिले के साथ आंध्र प्रदेश के श्रीकाकुलम, विशाखापट्टनम एवं विजयनगरम जिला के प्रभावित होने की संभावना है। इसके लिए केंद्र सरकार की 32 एनडीआरएफ टीम को इन सभी जिलों में तैनात किए जाने के साथ ही अतिरिक्त टीम को स्टैंडबाय में रखा गया है। इसके साथ ही राहत एवं बचाव कार्य के लिए भारतीय नौसेना एवं थल सेना को एलर्ट पर रहने के लिए निर्देश दिए जाने की बात का पता चला है। यह समुद्री तूफान 3 दिसंबर को चक्रवात का रूप लेकर 4 दिंम्बर सुबह के समय आंध्र एवं ओडिशा के तट को अतिक्रम करने की बात भारतीय क्राइसिस मैनेजमेंट कमेटी की तरफ सी कही गई है।

बैठक में विशेष राहत आयुक्त प्रदीप कुमार जेना ने कहा है कि भारतीय मौसम विभाग के पूर्वानुमान के मुताबिक जवाद 4 दिसंबर को दक्षिण ओडिशा एवं उत्तर आंध्र प्रदेश के समीप समुद्र में पहुंचेगा। इसके प्रभाव से तीन दिसंबर सुबह से ही तटीय जिलों के साथ आस-पास के जिलों में भारी बारिश शुरू हो जाएगी। इस दौरान 70 से 90 किमी. प्रति घंटे की रफ्तार से हवा चलने का पूर्वानुमान किया गया है। संभावित चक्रवात जवाद से निपटने के लिए ओड्राफ, एनडीआरएफ, दमकल वाहिनी तैयार है। 108 ओड्राफ टीम एवं एनडीआरएफ की टीम के साथ 200 दमकल वाहिनी की टीम जरूरत के हिसाब से तैनात की जाएगी।है।

Edited By: Kanchan Singh